Right News

We Know, You Deserve the Truth…

हिमाचल उपचुनावों को लेकर सियासी हलचल तेज, जाने कौन किस सीट पर कर रहा दावा

भाजपा के चंडीगढ़ मंथन के बाद नई दिल्ली में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा के साथ हुई मुलाकात में मंडी संसदीय क्षेत्र, फतेहपुर और जुब्बल-कोटखाई विधानसभा क्षेत्र उपचुनाव को लेकर रणनीति बनी है। इसमें भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने जो मंत्र दिया है, उसके आधार पर पार्टी आगामी समय में आगे बढ़ेगी। पार्टी में उच्च स्तर पर हुई इस मंत्रणा के बाद दावेदारों के नाम सामने आने लगे हैं। इस तरह अब चुनाव आयोग की तरफ से तीनों क्षेत्रों में एक साथ उपचुनाव होने की संभावना है, जिसकी घोषणा होते ही एक साथ 19 विधानसभा क्षेत्रों में आदर्श चुनाव आचार संहिता लगेगी।

यानि इस चुनाव प्रक्रिया से एक तिहाई हिमाचल प्रभावित होगा। इसमें सबसे प्रमुख मंडी संसदीय क्षेत्र है, जिसमें 17 विधानसभा क्षेत्रों के साथ मंडी, कुल्लू, शिमला, किन्नौर, लाहौल-स्पीति व चम्बा जिला के क्षेत्र आते हैं। इसके अलावा एक विधानसभा उपचुनाव प्रदेश के सबसे बड़े जिला कांगड़ा के फतेहपुर विधानसभा क्षेत्र और दूसरा शिमला जिला के जुब्बल-कोटखाई क्षेत्र में होना है। ऐसे में 7 जिलों के क्षेत्र इस चुनाव प्रक्रिया के दौर से गुजरेंगे।

मंडी में कौन है दावेदार

पूर्व सांसद रामस्वरूप शर्मा के निधन के कारण खाली हुई मंडी संसदीय सीट से इस समय टिकट के दावेदार के रूप में पूर्व सांसद महेश्वर सिंह, प्रदेश भाजपा प्रवक्ता अजय राणा, सैनिक कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष ब्रिगेडियर खुशाल सिंह और प्रदेश सचिव पायल वैद्य के साथ जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह का नाम भी चर्चा में रहा है। जहां तक जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर को टिकट दिए जाने का सवाल है तो उसकी अटकलों को फिलहाल मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने खारिज किया है। इसका एक कारण यह है कि उनका संसदीय क्षेत्र हमीरपुर आता है और दूसरा उनके चुनाव जीतने की स्थिति में एक और उपचुनाव होगा। दूसरा नाम भाजपा में फिर से वापसी करने वाले वरिष्ठ नेता एवं पूर्व सांसद महेश्वर सिंह का है जोकि टिकट की मांग कर रहे हैं। तीसरा नाम अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और युवा मोर्चा के साथ वर्तमान में प्रदेश प्रवक्ता अजय राणा का है, जिनका नाम पहले भी चर्चा में आ चुका है। चौथा नाम फोरलेन निर्माण में आने वाली भूमि के लिए 4 गुना मुआवजे की मांग करने वाले एवं वर्तमान सैनिक कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष ब्रिगेडियर खुशाल सिंह का है, साथ ही पांचवां नाम प्रदेश सचिव पायल वैद्य का भी चर्चा में है।

फतेहपुर व जुब्बल-कोटखाई में कौन दावेदार

कांग्रेस विधायक एवं पूर्व मंत्री सुजान सिंह पठानिया के निधन के कारण खाली हुई फतेहपुर विधानसभा सीट से इस समय भाजपा की तरफ से पूर्व सांसद कृपाल परमार और बलदेव ठाकुर का नाम चर्चा में है। इसी तरह मुख्य सचेतक एवं पूर्व मंत्री नरेंद्र बरागटा के निधन के कारण खाली हुई जुब्बल-कोटखाई सीट से उनके पुत्र चेतन सिंह बरागटा और नीलम सरकैक टिकट के दावेदार नेताओं में से एक हैं।


error: Content is protected !!