हाथरस की बिटिया के परिजनों का कहना है कि वह अपने केस की सुनवाई दिल्ली में कराना चाहते हैं, ताकि वह गांव छोड़कर दिल्ली चले जाएं। बिटिया के पिता का कहना है कि सीबीआई की कार्रवाई से अब न्याय की आस बढ़ गई है। अब हमारी बिटिया के साथ हुई घटना में हमें इंसाफ मिल सकता है। 


परिजनों का कहना है कि अब गांव में रहने का बिल्कुल मन नहीं है। हम अपने केस को दिल्ली ट्रांसफर कराना चाहते हैं। यहां का समाज भी अलग हो गया है। यहां का माहौल पहले जैसा नहीं रहा है, इसलिए दिल्ली जाना चाहते हैं।

इस प्रकरण में बिटिया के परिजन लंबे समय से केस को दिल्ली ट्रांसफर करने की मांग कर रहे हैं। उन्होंने यह बात कई बार मीडिया व अन्य अधिकारियों के सामने उठाई है। 

बिटिया के परिजनों का कहना है कि उनका एक बेटा दिल्ली में ही नौकरी करता है, इसलिए वह चाहते हैं कि वे दिल्ली ही चले जाएं। परिजनों का कहना है कि उनका इस माहौल में बिल्कुल मन नहीं लगता। 


उन्हें हर पल अपनी बिटिया की याद सताती रहती है। परिजनों का कहना है कि वह दिल्ली में रहकर ही अपनी जिंदगी की शुरुआत फिर से करने की कोशिश करेंगे।

By

error: Content is protected !!