नामांकन से दो घंटे पहले हरेंद्र यादव अगवा, कहा, बीजेपी नेताओं के कहने पर पुलिस ने उठाया

Read Time:4 Minute, 57 Second

UP News: बुलंदशहर में जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव को लेकर राजनीतिक माहौल गर्म है। यहां नामांकन से दो घंटे पहले सपा, बसपा और रालोद की संयुक्त उम्मीदवार आशा यादव के पति हरेंद्र यादव अचानक अगवा हो गए। आरोप है कि सादी गाड़ी में पहुंचे पांच पुलिस कर्मियों ने जबरन उन्हें प्राइवेट गाड़ी में बैठाकर साथ लेकर चले गए।

हरेंद्र ने आरोप लगाया कि उन्हें BJP नेताओं ने उठवाया है। पता नहीं पुलिस वाले एसटीएफ से हैं या एसओजी वाले हैं। मेरा मोबाइल फोन भी छीन लेते हैं। मेरी पत्नी नोएडा आवास से नामांकन पत्र दाखिल करने के लिए निकली हैं।

शुक्रवार को 21 सदस्य गिरफ्तार किए गए थे

इससे पहले शुक्रवार को बुलंदशहर पुलिस ने हरेंद्र यादव और स्याना के पूर्व विधायक दिलनवाज समेत 21 सदस्यों को गिरफ्तार कर सिकंद्राबाद थाने में बंद कर दिया था। हरेंद्र यादव और उनकी पत्नी आशा यादव पूर्व में बुलंदशहर की जिला पंचायत अध्यक्ष भी रह चुकी हैं।

नामांकन दाखिल करने का आज आखिरी दिन

जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए नामांकन पत्र दाखिल होने का आज आखिरी दिन है। सुबह 11 बजे से दोपहर तीन बजे तक ही नामांकन दाखिल होना है। बुलंदशहर में जिला पंचायत सदस्यों के 52 वार्ड हैं। जिले में जिला पंचायत के चुनाव में भाजपा को गहरा झटका लगा था। 52 सीट में से भाजपा को सिर्फ 10 प्रत्याशी ही जिला पंचायत सदस्य का चुनाव जीत सके थे। बसपा समर्थित भी 10 प्रत्याशी ही चुनाव जीते थे। सपा के 2 और आरएलडी के 7 सदस्य चुनाव जीते थे। यहां जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी को लेकर धन-बाहुबल का इस्तेमाल किया जा रहा है।

पूर्व विधायक बोले- भाजपा का खेल खत्म
बुलंदशहर से स्याना के पूर्व विधायक और रालोद नेता दिलनवाज खान का कहना है कि स्याना विधानसभा में जिला पंचायत सदस्य की 9 सीटें हैं। यहां भाजपा का एक प्रत्याशी जीता था। मुझे व 20 अन्य सदस्यों को शुक्रवार को सिकंदराबाद थाने में ले जाया गया था। पीर बियावनी स्थित डिग्री कॉलेश आशा यादव का है। उसी में सदस्य पहुंचे थे। हमारे साथ बहुमत है। पुलिस और भाजपा को करारा जबाब दिया जाएगा।

पुलिस प्रशासन पर गंभीर आरोप
बुलंदशहर में जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए भाजपा से अंशुल तेवतिया मैदान में हैं। जबकी गठबंधन से आशा यादव मैदान में हैं। तीसरा नाम सुनील चरोरा की पत्नी गीता चरोरा का सामने आया है। लेकिन सुनील चरोरा शुक्रवार को पूर्व अध्यक्ष हरेंद्र यादव के साथ गिरफ्तार हुए। ऐसे में सुनील का सारा समर्थन हरेंद यादव की पत्नी आशा की तरफ है। दिलनवाज पूर्व विधायक व हरेंद्र यादव का आरोप है की पुलिस प्रशासन भाजपा के सांसद व विधायक के इशारे पर काम कर रहा है।

एसपी सिटी का बयान
एसपी सिटी बुलंदशहर एसएन तिवारी का कहना है की पुलिस किसी भी पार्टी के दबाव में नहीं है। हरेंद्र यादव गलत आरोप लगा रहे हैं। पुलिस ने उन्हें अगवा नहीं किया है। पता नहीं उन्होंने क्यों आरोप लगाया है? वह कहां हैं इसकी भी मुझे जानकारी नहीं है।

Get delivered directly to your inbox.

Join 883 other subscribers

error: Content is protected !!
Hi !
You can Send your news to us by WhatsApp
Send News!