ज्वालामुखी में आज सम्पूर्ण होंगे गुप्त नवरात्रे, 71 ब्राह्मणों ने किया पूजा पाठ

Read Time:1 Minute, 56 Second

प्रसिद्ध शक्तिपीठ ज्वालामुखी मंदिर में आषाढ़ मास की गुप्त नवरात्रि मनाई जा रही है और अब श्रावण मास भी शुरू हो गया है। आज विश्व शांति एवं जनकल्याण के लिए ज्वालामुखी मंदिर में शुरू हुई गुप्त नवरात्रि की रस्में हवन पूजा व कन्या पूजन के साथ संपन्न होंगी। अनुष्ठान में बैठे 71 ब्राह्मणों को अवर्णी फल और दक्षिणा दी जाएगी। आठ दिवसीय गुप्त नवरात्रि का समापन भी रविवार 18 जुलाई को पूर्णाहुति के साथ होगा। कोविड-19 कर्फ्यू में ढील के बाद मंदिर खुले हैं, इसलिए दूर-दराज के राज्यों से श्रद्धालु यहां पहुंच रहे हैं।

यहां आने वाले श्रद्धालुओं की हर सुविधा का ध्यान रखा जा रहा है. साथ ही उन्हें कोविड-19 नियमों के अनुपालन के बारे में भी बताया जा रहा है।

वहीं, मंदिर अधिकारी तहसीलदार निर्मल सिंह ठाकुर ने बताया कि हर साल की तरह यहां परंपरा के अनुसार मां ज्वाला का ‘प्रकटोत्सव’ मनाया गया। प्रशासन ने कोविड नियमों का अनुपालन सुनिश्चित किया है। कांगड़ा घाटी में स्थित ज्वालामुखी शक्तिपीठ की मान्यता 51 शक्तिपीठों में सर्वोपरि मानी जाती है। इन पीठों में यह एकमात्र शक्तिपीठ है, जहां मां के दर्शन प्रकाश के रूप में होते हैं। हवन पूजा के साथ गुप्त नवरात्रों की रस्में पूरी होंगी।

error: Content is protected !!
Hi !
You can Send your news to us by WhatsApp
Send News!