Right News

We Know, You Deserve the Truth…

सोशल डिस्टेंसिंग के साथ ईद की नमाज अदा करने की अनुमति दे सरकार, ताकि दुआ की जा सके

हिमाचल में प्रदेशवासियों की धार्मिक भावनाओं को दरकिनार करते हुए सरकार ने कोरोना कर्फ्यू की घोषणा कर दी है। जबकि सभी अच्छे से जानते है कि अभी ईद-उल-फितर आने वाली है। जिस दिन मुस्लिम समुदाय के लोग इक्कठा होकर नमाज अदा करते है और दुआ करते है। लेकिन सरकार ने इस बारे एक बार भी नही सोचा। इस बारे सोशल मीडिया पर कई लोगों ने सरकार से मांग की है कि मुस्लिम समुदाय की धार्मिक भावनाओं की कदर करते हुए, सरकार ईद वाले दिन सुबह दो घंटे की छूट दे ताकि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए खुले मैदान में आराम से नमाज अता की जा सके।

सोशल मीडिया में आवाज उठाते हुए लिखा गया है कि हम हिमाचल के मुस्लिम आपके कैबिनेट द्वारा लिये गये कोरोना लाॅकडाऊन निर्णय का स्वागत करते है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को रोकने का यही एक बेहतर विक्ल्प है, जो जनहित में लिया गया निर्णय है।

ये लाॅकडाऊन रात्री 6 मई से रात्री 16 मई तक लिया गया। कैबिनेट मीटिंग के बाद जो आदेश आया है, उससे छूट और प्रतिबंध की स्थिति साफ हो गई है।

आपको ज्ञात होगा आजकल हम मुस्लिमों का पाक रमज़ान महीना चला हुआ है। इसी मई के महीने में लगभग 14 मई को ईद का त्यौहार भी है। दिनभर रोजा रखकर हर नमाज में देश-प्रदेश मे फैली कोरोना आपदा से राहत के लिए दुआ की जा रही है। क्योंकि ये आपदा किसी धर्म जाति को देखकर नही आयी है, सबके लिए है।

ईद के त्यौहार में बाज़ारों में काफी चहल-पहल होती है। व्यापार भी अच्छा होता है, जिससे दुकानदार अच्छा मुनाफा भी कमाते है। जो आज हमारी अर्थव्यवस्था की जरूरत भी है।

हम आपसे सिर्फ इतनी मांग करते है कि ईद वाले दिन सिर्फ एक घंटे के लिए सुबह 9 से 11 तक हम मुस्लिमों को नमाज पढ़ने के लिए थोड़ी छूट दी जाये। हम ईदगाह के मैदानों में सोवल डिस्टैंस कायम रखते हुये नमाज अदा कर सकें। इस ईद पर गले मिलने का रिवाज भी है पर कोरोना-2 के मद्देनजर ये रस्म भी नही की जायेगी।
सोशल डिस्टैंस को कायम करते हुए सिर्फ नामाज अदा की जायेगी।
ऐसा कोई भी कार्य नही होगा जिससे कोरोना का संक्रमण आगे बढे। ईद की नमाज में भी इस आपदा से राहत के लिए दुआ की जायेगी।

आशा है आप इस सब पर गौर करते हुये ईद की नमाज पढने के लिए छूट के आदेश प्रशासन को जारी करेंगें।

error: Content is protected !!