हिमाचल में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। कोरोना की दूसरी लहर के चलते हिमाचल में स्कूल और कॉलेज आदि 15 मई तक बंद हैं। वहीं, परीक्षाएं भी स्थगित करनी पड़ी हैं। ऐसे में अब 10वीं और 11वीं के छात्रों को प्रोमोट करने की तैयारी है। साथ ही 12वीं की परीक्षा का आयोजन कैसे किया जाए सरकार इस पर भी चर्चा की जा रही है। शिमला में मीडिया से बातचीत में शिक्षा मंत्री गोविंद ठाकुर ने बताया कि 10वीं व 11वीं कक्षा के छात्रों को प्रोमोट करने की तैयार कर ली है। जल्द ही इसको लेकर फैसला लिया जा सकता है।

शिक्षा मंत्री गोविंद ठाकुर ने बताया कि 12वीं की परीक्षा करवाने को लेकर अभी अंतिम निर्णय नहीं हुआ है। इसको लेकर चर्चा की जा रही है व सुझाव मांगें जा रहे हैं। इसके बाद ही स्थिति ठीक होते ही कोई निर्णय लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि परीक्षा के आयोजन से संबंधित जानकारी छात्रों को पहले ही दे दी जाएगी, ताकि वह अपनी तैयारी कर सकें। उन्होंने कहा कि सरकार ने 15 मई तक स्कूल, कॉलेज आदि बंद रखने का निर्णय लिया है। इसके बाद समीक्षा की जाएगी। उन्होंने ऑनलाइन पढ़ाई जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि 5 मई को कैबिनेट की बैठक है और बैठक में भी कुछ महत्वपूर्ण निर्णय लिए जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक वैक्सीनेशन होना जरूरी है, लेकिन वैक्सीनेशन करने वाले स्टाफ को पहले रजिस्ट्रेशन करनी पड़ती और बाद में वैक्सीनेशन, इससे समय लग रहा है। ऐसे में सरकार ने निर्णय लिया है कि रजिस्ट्रेशन के लिए सामाजिक संस्थाओं की मदद ली जाए और टीचरों की ड्यूटी लगाई जाए। स्थानीय स्तर पर स्कूलों के अध्यापकों की वैक्सीनशन में ड्यूटी भी लगाई गई हैए ताकि टीकाकरण के अभियान को सफल बनाया जा सके।

error: Content is protected !!