गोवा में बीजेपी की सहयोगी गोवा फॉरवर्ड पार्टी ने एनडीए से बाहर निकलने का ऐलान कर दिया है। डेढ़ साल पहले राज्य में बीजेपी की लीडरशिप वाली सरकार ने उसके कोटे के मंत्रियों को हटा दिया था। इसके बाद से ही दोनों दलों के बीच मतभेद चल रहे थे। अब गोवा फॉरवर्ड पार्टी ने राज्य की प्रमोद सावंत सरकार ने एडीए से बाहर निकलने का फैसला लिया है। पार्टी के मुखिया विजय सरदेसाई ने बताया कि कार्यकारी समिती और पॉलिटिकल अफेयर्स कमिटी की बैठक के बाद यह फैसला लिया गया है। इस संबंध में गृह मंत्री अमित शाह को अवगत करा दिया गया है। 

विजय सरदेसाई ने कहा, ‘बीजेपी की स्टेट लीडरशिप ने जुलाई, 2019 के बाद से ही राज्य की जनता से मुंह मोड़ लिया है। मनोहर पर्रिकर जी के असमय निधन के बाद से यह हालात पैदा हुए हैं।’ इसके साथ ही विजय सरदेसाई ने कहा कि गोवा के नए सीएम प्रमोद सावंत की लीडरशिप में भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिल रहा है। विजय सरदेसाई ने कहा कि अमित शाह को लिखे पत्र में पार्टी के फैसले से अवगत कराया है। यही नहीं उन्होंने कहा कि बीजेपी राज्य में निर्णय लेने की क्षमता में नहीं है। दरअसल कांग्रेस के एक धड़े के बीजेपी में शामिल होने के बाद से ही भगवा दल और गोवा फॉरवर्ड पार्टी के बीच मतभेद पैदा हो गए थे। 

दिवंगत नेता मनोहर पर्रिकर की लीडरशिप में बीजेपी ने गोवा फॉरवर्ड पार्टी और महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के नेताओं को भी कैबिनेट में शामिल किया था। कांग्रेस तब सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी, लेकिन इसके बाद भी इन दो क्षेत्रीय दलों की मदद से बीजेपी सत्ता में आ गई थी। हालांकि बाद में कांग्रेस के ही 10 विधायकों ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया और बीजेपी में शामिल हो गए। इसके बाद गोवा फॉरवर्ड पार्टी ने गठबंधन सरकार से समर्थन वापस ले लिया था। हालांकि इसके बाद भी पार्टी एनडीए में बनी हुई थी। अब उसने एनडीए को भी छोड़ने का फैसला ले लिया है।

error: Content is protected !!