राजस्थान के दौसा में हाईकोर्ट के निर्देश के बावजूद पुलिस की लापरवाही से एक लड़की ऑनर किलिंग की भेंट चढ़ गई। लड़की पिंकी और प्रेमी रोशन ने हाईकोर्ट में जज के सामने एक साथ रहने की इच्छा जतायी थी और सुरक्षा की मांग की थी। कोर्ट ने पुलिस को कहा था कि उन्हें सुरक्षा मुहैया करायी जाए।

मगर पुलिस ने ध्यान नहीं दिया और लड़की के पिता ने उसका अपहरण कर गला दबाकर हत्या कर दी। पिछले तीन दिनों से प्रेमी रोशन पुलिस से ये गुहार कर रहा था कि पिता पिंकी की हत्या कर देगा। मगर पुलिस ने कोई एक्शन नहीं लिया।

हत्या की वारदात को अंजाम देने के बाद लड़की का पिता शंकर सैनी महिला थाने में पहुंचा और जाकर कहा कि मैंने अपनी बेटी को मार दिया है। इसके बाद एसपी अनिल बेनीवाल सहित अनेक पुलिस अधिकारियों की टीम मौके पर पहुंची और मौका मुआयना कर मामले की जांच में जुट गई है।

दौसा पुलिस पर उठे सवाल

हैरानी कर देने वाली बात यह है कि पिंकी सैनी पहले हाइकोर्ट में पेश हुई थी जहां उन्हें पुलिस सुरक्षा मुहैया कराने के निर्देश दिए गए थे। इसके बावजूद भी लिव-इन-रिलेशनशिप में रह रही पिंकी का पहले प्रेमी के घर से किडनैप हुआ और बुधवार रात उसकी हत्या कर दी गई। इस वारदात से दौसा पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठाए जा रहे हैं।

दलित लड़के के साथ प्रेम

दौसा शहर की रामकुंड की रहने वाली पिंकी सैनी दरअसल रोशन महावर नामक दलित लड़के से प्रेम करती थी। 16 फरवरी 2021 को परिजनों ने पिंकी की जबरन शादी लालसोट क्षेत्र के एक गांव में करा दी थी। शादी के बाद पिंकी सैनी 21 फरवरी को अपने प्रेमी रोशन के साथ घर से फरार हो गई और राजस्थान हाई कोर्ट की शरण ली. जहां पिंकी ने रोशन के साथ रहने की इच्छा जताई। साथ ही जबरन शादी का आरोप लगाया।

सुरक्षा मुहैया कराने के निर्देश

इसके बाद राजस्थान हाई कोर्ट ने दौसा पुलिस और जयपुर की अशोक नगर थाना पुलिस को लड़की पिंकी और उसके प्रेमी रोशन महावर को सुरक्षा उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। एक मार्च को पिंकी सैनी अपने प्रेमी रोशन के घर दौसा शहर में झालरा का बास में आई थीं। इसी दौरान पिंकी सैनी की परिजन एक राय होकर प्रेमी रोशन के घर पहुंचे और वहां तोड़फोड़ की। पिंकी को अगवा कर ले गए। घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस ने भी पिंकी सैनी की तलाश की लेकिन ढूंढ नहीं पाई।

इसी बीच, पुलिस को पता चला कि पिंकी सैनी की हत्या कर दी गई है। इसके बाद पुलिस पिंकी सैनी के पिता के घर रामकुंड पहुंची और शव बरामद किया। मामले की गंभीरता को देखते हुए दौसा एसपी अनिल बेनीवाल, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अनिल सिंह चौहान,  पुलिस उपाधीक्षक दीपक शर्मा, कोतवाल सुगन सिंह सहित अनेक पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे।

अब पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी हुई है. इस वारदात से दौसा पुलिस पर सवाल खड़े हो गए हैं। प्रेमी जोड़े को हाई कोर्ट ने सुरक्षा उपलब्ध कराने के निर्देश दिए लेकिन लड़की को 1 मार्च को दौसा शहर से किडनैप किया गया और 2 दिन बाद की उसकी हत्या कर दी गई।

error: Content is protected !!