आगरा के कस्बा फतेहाबाद के प्रतापपुरा गांव में आज दोपहर खेलते समय मिट्टी खिसक जाने से एक मासूम शौचालय के गड्ढे में गिर गया। बालक को बचाने को उसके दो सगे भाई भी गड्ढे में कूद गए और जब तीनों जहरीली गैस का शिकार हुए तो उन्हें बचाने चचेरा भाई और फिर चारों को बचाने में एक पड़ोसी भी गड्ढे में कूद गया पर जहरीली गैस ने किसी को नहीं छोड़ा और पांचों की मौत हो गयी। आगरा एसएसपी ने घटना पर दुख जताया है। जिलाधिकारी ने भी मृतकों के लिए संवेदना व्यक्त की है।

जानकारी के मुताबिक फतेहाबाद के प्रतापपुरा गांव निवासी सुरेंद्र ने घर के शौचालय के लिए 15 फ़ीट का गड्ढा खुदवाया था। आज उसका छोटा बेटा अनुराग 12 वर्ष बाहर खेल रहा था कि उसी समय अचानक गड्ढे की मिट्टी खिसक गई और अनुराग गड्ढे में गिर गया। अनुराग को बचाने के लिए उसके दो भाई हरिमोहन और अविनाश भी गड्ढे में कूद गए लेकिन गड्ढे के अंदर जहरीली गैस के कारण वो भाई को बचा तो नहीं पाए पर खुद बेहोश होने लगे। यह देख उनका चचेरा भाई सोनू भी गड्ढे में बिना सेफ्टी के कूदा और बाहर नहीं निकल पाया।

जब तक सभी को बाहर निकाला गया हो चुकी थी देर
चारों को बचाने को पड़ोसी योगेश भी कूदा। पांच लोगों के गड्ढे में फंसने की खबर पर गांव इकट्ठा हो गया और पुलिस को सूचना के बाद राहत कार्य शुरू किया गया। ग्रामीणों ने जब सबको बाहर निकाला तो मासूम अनुराग की सांस थम चुकी थी और बाकी गंभीर थे। आनन फानन में उन्हें आगरा के ऐसे भेजा गया पर 80 किमी का सफर तय करते करते उन्होंने रास्ते मे ही दम तोड़ दिया।

एसएसपी बबलू कुमार के अनुसार दर्दनाक घटना हुई है और पुलिस द्वारा परिवारों की पूरी मदद की जा रही है। सभी का पोस्टमॉर्टम करवाया जा रहा है। क्षेत्र में शांति व्यवस्था बनाये रखने को फोर्स तैनात किया गया है।

You have missed these news

error: Content is protected !!