फर्जी वैबसाइट बनाकर बद्दी के कालूझिंडा में स्थित एक निजी विश्वविद्यालय सहित अन्य शिक्षण संस्थानों की जाली डिग्रियां, सर्टीफिकेट बनाकर बेचने वाले गिरोह का बद्दी पुलिस ने फर्दाफाश किया है। वहीं इस गिरोह के 5 सदस्यों को भी गिरफ्तार कर लिया है। यह गिरोह दिल्ली से इस गोरखधंधे को अंजाम देता था और पुलिस ने इसके पास से भारी मात्रा में जाली डिग्रियां, मार्कशीट बरामद की हैं और पुलिस अन्य आरोपियों की संलिप्तता के बारे में भी छानबीन कर रही है।

Demo Pic

एसपी बद्दी रोहित मालपानी ने बताया कि आईईसी विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार विनोद कुमार की शिकायत पर 15 दिसम्बर, 2020 को मामला दर्ज किया गया था। शिकायत के मुताबिक अज्ञात लोगों द्वारा विश्वविद्यालय की फर्जी वैबसाइट बनाई गई है। पुलिस ने मामला दर्जकर डीएसपी बद्दी नवदीप सिंह के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया गया था और एसआईटी की टीम ने इस मामले की छानबीन की और इस गिरोह का फर्दाफाश किया और अब तक 5 आरोपी गिरफ्तार कर लिए हैं।

एसपी ने बताया कि उक्त गिरोह द्वारा फर्जी वैबसाइट बनाकर बद्दी के कालूझिंडा में स्थित निजी विश्वविद्यालय सहित अन्य संस्थानों की जाली डिग्री बनाकर बेची जाती थीं और पुलिस ने इसके पास से उक्त विश्वविद्यालय सहित देश के अन्य विश्वविद्यालयों, स्कूलों व शिक्षण संस्थानों की काफी मात्रा में डिग्रियां, सर्टीफिकेट बरामद हुए हैं, जिनके बारे में पुलिस छानबीन कर रही है।

पुलिस ने इस गिरोह के सदस्य एनान अहमद (34) निवासी समसतीपुर बिहार, मोहम्मद सलीम (29) निवासी दिल्ली, भारती (28) निवासी दिल्ली, मनीष कुमार (32) निवासी फजिल्का पंजाब, अर्चना (31) निवासी मिर्जापुर उत्तर प्रदेश को गिरफ्तार कर लिया है। उन्होंने बताया कि पुलिस ने आरोपियों को दिल्ली, पंजाब व हरिद्वार आदि स्थानों से गिरफ्तार किया है।

error: Content is protected !!