हिमाचल: फायर सीजन शुरू होने वाला है तो इस बार जंगलों से सटी निजी घासनियों में आग लगाने से ठीक एक दिन पहले वन विभाग को सूचना देना अनिवार्य किया गया है। सुचना दिए बगैर निजी घासनियों में आग लगाने वालों के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई होगी, इसलिए विभाग ने सभी निजी घासनी मालिकों को निर्देश दिए हैं कि वे यदि निजी घासनी में आग लगाना चाहते हैं तो एक दिन पहले विभाग को सूचित करना सुनिश्चित करें।

विभाग ने कहा है कि अक्सर देखा गया है कि फायर सीजन में लोग अपनी निजी घासनियों में आग लगाते हैं, लेकिन लापरवाह रवैये के चलते आग धीरे धीरे जंगलों में फैल जाती है, जिससे लाखों की वन संपदा को बड़े पैमाने में नुक्सान पहुंचता है, इसलिए निजी घासनी मालिकों को समय रहते सचेत किया गया है और जंगलों से सटी निजी घासनियों के मालिकों के एड्रेस भी विभाग ने बतौर रिकार्ड अपने पास रख लिए हैं।

इस बार विभाग ने पहली अप्रैल से फायर सीजन की शुरुआत करने का निर्णय लिया है, क्योंकि बारिशें कम होने व मौसम शुष्क रहने के चलते तापमान काफी बढ़ गया है ,जिसके चलते जंगलों में आग लगना भी शुरू हो गई है। सावधानी बरतते हुए विभाग ने पहली अप्रैल से फायर सीजन के मददेनजर टीमों को फील्ड में उतारने का निर्णय लिया है।

जंगलों में आग की घटनाओं से निटपने के लिए तैयारियां पूरी हो चुकी हैं और कंट्रोल रूम व सब कंट्रोल रूप भी तैयार हैं। ऐसे में अब विभाग जनता को जागरूक करने के लिए जल्द ही जागरूकता शिविरों की शुरुआत करेगा, जिसके तहत ग्रामीणों को जंगलों की सुरक्षा के प्रति जागरूक किया जाएगा। उधर, बिलासपुर वन वृत्त के मुख्य अरण्यपाल देवराज कौशल ने बताया कि फायर सीजन पहली अप्रैल से चलेगा, जिसके लिए तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।

By

error: Content is protected !!