दिल्ली सीमा पर कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन लगभग एक माह से जारी है। उधर, पंजाब में किसानों के इस आंदोलन को भारी समर्थन मिल रहा है। लोग अपने-अपने अंदाज में किसान आंदोलन को अपना समर्थन दे रहे हैं। वहीं आंदोलन के बीच कई किसान फसल का उचित दाम न मिलने से परेशान हैं।

गोभी के बाद पंजाब में किसानों ने आलू की फसल नष्ट करना शुरू कर दिया है। ऐसी ही एक तस्वीर पंजाब के कपूरथला जिले से सामने आई है।कपूरथला के गांव गोसल निवासी युवा किसान जसकीरत सिंह आलू की फसल के उचित दाम न मिलने से खफा हैं। नाराज युवा किसान जसकीरत सिंह ने अपनी आलू की 11 एकड़ फसल पर ‘हल’ चला दिया

उन्होंने बताया कि पंजाब के दोआबा क्षेत्र में आलू की अधिक पैदावार होती है। बावजूद इसके फसल का उचित मूल्य नहीं मिलता है। फसल की लागत भी नहीं निकल रही है। इसे देखते हुए युवा किसान जसकीरत सिंह ने आलू की फसल को ट्रैक्टर से जोतवा दिया। बता दें कि इससे पहले पंजाब में कई जगह किसानों ने गोभी की फसल भी उचित मूल्य न मिलने पर उजाड़ दी थी।

किसानों के अनुसार आलू की फसल पर करीब 60 हजार रुपये प्रति एकड़ खर्च आता है। लेकिन जिस तरह से आलू के दाम औंधे मुंह गिरे हैं, इससे तो प्रति एकड़ 25000 रुपये का उन्हें नुकसान हो रहा है। बकौल, जसकीरत अगर वह ट्रांसपोर्ट खर्च जोड़कर आलू मंडी पहुंचाते हैं तो नुकसान और बढ़ जाएगा।

यही वजह है कि उसने आलू को खेत में नष्ट करना बेहतर समझा। किसान तरसेम सिंह और सुखदेव सिंह ने बताया कि फसल चक्र से किसान निकल रहे हैं। किसानों ने सब्जी की खेती करनी शुरू की लेकिन उचित दाम न मिलने से परेशान हैं

error: Content is protected !!