किसानों और बागवानों ने ठियोग में रोका महेंद्र सिंह का रास्ता, लगे गो बैक के नारे

बागवानी मंत्री महेंद्र सिंह के बयान से गुस्साए किसानों-बागवानों ने शुक्रवार को एनएच-05 पर ठियोग में मंत्री का काफिला रोक दिया। विश्रामगृह के बाहर जैसे ही बागवानों को मंत्री के आने की भनक लगी, उन्होंने एनएच पर यातायात रोकते हुए मंत्री के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की और गो-बैक महेंद्र सिंह केनारे लगाए।

इस दौरान पुलिस के साथ बागवानों की काफी धक्का-मुक्का हुई और स्थिति तनावपूर्ण हो गई। मौके पर मौजूद चौपाल के विधायक बलवीर वर्मा और स्थानीय एसडीएम ने बागवानों को शांत किया। तब जाकर करीब 20 मिनट बाद एनएच को यातायात के लिए बहाल किया जा सका। बागवानी मंत्री के साथ कृषि मंत्री वीरेंद्र कंवर, चौपाल के विधायक और एपीएमसी शिमला-किन्नौर के चेयरमैन नरेश शर्मा भी मौजूद रहे।

धरने से पहले बनाई रणनीति

बागवानी मंत्री के घेराव से पहले संयुक्त किसान मंच ने 13 सितम्बर के प्रस्तावित प्रदर्शन की रणनीति ठियोग के विश्रामगृह में बनाई। इस दौरान किसान नेताओं ने कहा कि सेब के रेट गिरने से बागवानों को लागत मूल्य भी नहीं मिल पा रहा है। इस दौरान संयुक्त किसान मंच के प्रदेश संयोजक हरीश चौहान, सह संयोजक संजय चौहान, सदस्य सोहन ठाकुर, किसान नेता संदीप वर्मा, महेंद्र वर्मा, बालकृष्ण बाली व सुरेश वर्मा सहित बड़ी संख्या में किसान-बागवान मौजूद रहे।

इस कारण भड़के बागवान

बता दें कि बागवानी मंत्री ने 2 रोज पहले शिमला में एक बयान दिया, जिसमें उन्होंने सेब को खुले में बेचने की सलाह दी थी। खुले में सेब बेचने की मंत्री की सलाह बागवानों को अखर गई। इसी वजह से मंत्री को पराला जाते वक्त शुक्रवार को बागवानों के घुसे का शिकार होना पड़ा। उधर, बागवानों के साथ बैठक में महेंद्र सिंह ने कहा कि उनका मकसद किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाना नहीं था, बल्कि एक विकल्प की बात करना था।

बागवानों के हितों के लिए उठाएंगे ठोस कदम : महेंद्र

बागवानी मंत्री महेंद्र सिंह ने कहा कि बागवानी समस्याओं को लेकर उचित कदम उठाए जा रहे हैं। वह स्वयं भी एक बागवान हैं। उन्होंने कहा कि इस बार कुदरत ने बागवानों पर कहर ढाया है। मंडियों में की जा रही अवैध वसूली पर बागवानी मंत्री ने कहा कि कानून के विपरीत यदि कोई कार्य करता पकड़ा गया तो उसे किसी भी सूरत में नहीं बख्शा जाएगा। बागवानी मंत्री ने कहा कि संयुक्त किसान मंच के साथ हुई बैठक में जो निर्णय लिए गए हैं वह त्वरित रूप में लागू किए गए हैं। उन्होंने कहा कि सीए स्टोर में 25 फीसदी चैंबर बागवानों के लिए आरक्षित रखे जाएंगे। इसे लेकर जल्द निजी घरानों से बैठक की जाएगी और उसे लागू किया जाएगा।

बागवानी मंत्री के बयान का गलत अर्थ निकाला : रणधीर शर्मा

भाजपा के मुख्य प्रवक्ता रणधीर शर्मा ने कहा कि बागवानी मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर के बयान का गलत अर्थ निकाला गया। बागवानी मंत्री ने एमआईएस के तहत खरीदे जाने वाले सेब को बिना पैक किए के्रट के माध्यम से बेचने का विकल्प सुझाया था। ठियोग में बागवानी मंत्री के घेराव विपक्ष की साजिश है।

मंत्री बागवानों के प्रति असंवेदनशील

किसान सभा के राज्याध्यक्ष डाॅ. कुलदीप सिंह तंवर ने कहा कि मंत्री अभी तक सेब और आलू में फर्क नहीं कर पाए हैं। खुले में सेब बेचने के बागवानी मंत्री के बयान को लेकर किसान सभा ने मंत्री महेन्द्र सिंह को घेरते हुए कहा कि उनका बयान बागवानी के बारे में उनके अल्पज्ञान को ही नहीं दर्शाता बल्कि बागवानों के प्रति उनकी असंवेदनशीलता को भी जाहिर करता है।

कांग्रेस आंदोलन करेगी : रोहित ठाकुर

उधर, पूर्व मुख्य संसदीय सचिव व जुब्बल-नावर-कोटखाई के पूर्व विधायक रोहित ठाकुर ने कहा है कि इसके बागवानों को राम भरोसे छोड़कर भाजपा सरकार का सारा ध्यान उपचुनाव पर केंद्रित है। ठियोग में आयोजित पत्रकार वार्ता में रोहित ठाकुर ने कहा कि सरकार के वरिष्ठ मंत्री हास्यास्पद बयान देकर बागवानों के जख्मों पर नमक छिड़कने का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार का बागवानों की समस्याओं के प्रति उदासीन रवैया रहा तो कांग्रेस पार्टी जनता के सहयोग से शीघ्र आंदोलन करेगी।

SHARE THE NEWS:
error: Content is protected !!