Right News

We Know, You Deserve the Truth…

स्वास्थ्य की हेल्थ वर्कर और आशा वर्कर के साथ हुए जातिगत बर्ताव पर मांगी कड़ी कार्रवाई

यह मांग अनुसूचित जाति/ जनजाति सरकारी कर्मचारी कल्याण संघ के जिलाध्यक्ष दर्शन लाल ने प्रशासन से की। उन्होंने कहा कि कोरोना के संकट काल में फ्रंट वारियर्स के रूप में स्वास्थ्य कर्मी पूरी इमानदारी से अपनी सेवाएं दे रहे हैं । लेकिन जिला कांगड़ा के अंतर्गत फतेहपुर के रेहन छेतर में स्वास्थ्य कर्मियों के साथ जातिगत दुर्व्यवहार की घटना से आज पूरा प्रदेश शर्मसार हुआ है।

घटना में रेहण छेतर के अंतर्गत किसी परिवार के सदस्य की कोरोना रिपोर्ट पॉज़िटिव आने के बाद आशा वर्कर दवाई लेकर उनके घर गई ।लेकिन कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट को लेकर तैश में संबंधित परिवार के सदस्य द्वारा जातिगत गाली गलौज का शिकार होना पड़ा। उन्होंने पहले अपने व्यक्तिगत समुदाय के टेस्ट करवाने की बात कह कर आशा वर्कर को बेइज्जत करके भेज दिया। इसी मामले में रेहन छतर के अंतर्गत तैनात महिला स्वास्थ्य कर्मी को टेलीफोन पर जातिगत दुर्व्यवहार के साथ धमकाने का प्रयास किया गया। हालांकि वार्ड सदस्य रीना शर्मा को भी उनके द्वारा की गई बदतमीजी झेलनी पड़ी ।

उन्होंने कहा कि संकट की ऐसी स्थिति में अपनी सेवाएं दे रही स्वास्थ्य कर्मियों के आत्मसम्मान की रक्षा की जानी चाहिए । घटना में शामिल दोषी परिवार के सदस्यों के खिलाफ उचित कार्रवाई अमल में लाई जाए। ताकि आधारभूत सेवाओं में शामिल स्वास्थ्य कर्मियों का मनोबल बना रहे। उन्होंने इस संबंध में प्रशासन से अनुसूचित जाति/ जनजाति कर्मचारी कल्याण संघ की राज्य पदाधिकारी के साथ हुई जातिगत दुर्व्यवहार की घटना को लेकर दोषी परिवार के खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाने की मांग की।

error: Content is protected !!