Right News

We Know, You Deserve the Truth…

हमें कोरोना वॉरियर्स घोष‍ित करें सरकार हिमाचल प्रदेश बिजली बोर्ड के स्टाफ ने किया प्रदर्शन

हिमाचल प्रदेश स्टेट इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड एंप्लायज यूनियन की बैठक नूरपुर में हुई। यूनियन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष पवन मोहल ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से मांग की है कि बिजली बोर्ड के कर्मचारियों को प्राथमिकता के आधार पर कोरोना वैक्सीन लगाई जाए। बैठक को संबोधित करते हुए पवन मोहन ने कहा कि बिजली कर्मचारी राज्य में 24 घंटे विद्युत आपूर्ति बनाए रखने के लिए इस महामारी के बीच में देशभर में सेवाएं दे रहे हैं। प्रदेश में भी फील्ड में बहुत सारे बिजली कर्मचारी संक्रमित हो रहे हैं, जिसमें कुछ की स्थिति तो बहुत ही गंभीर हो रही है। वहीं बिजली बोर्ड में अधिकतर लाइन व कमर्शियल तथा आउटसोर्स स्टाफ, जो फील्ड में कार्यरत है 18 से 45 वर्ष के बीच के हैं। इस कारण अभी तक इनको कोरोना वैक्सीन नहीं लग पाई है।

उन्होंने कहा प्रदेश सरकार द्वारा बिजली कर्मियों को कोरोना वैक्सीन की प्राथमिकता में न रखने से बिजली कर्मचारियों का मनोबल घटा है और उनमें भारी रोष है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा बिजली कर्मियों को वैक्सीन लगाने की प्राथमिकता में नहीं लिया है। यूनियन ने अपनी आवाज प्रदेश सरकार तक पहुंचाने के लिए वीरवार को यूनियन के केंद्रीय कार्यकारिणी के आह्वान पर पूरे प्रदेश के विद्युत कर्मचारियों ने काले बिल्ले लगाकर विरोध प्रदर्शन किया और प्रदेश सरकार से यह मांग की की विद्युत कर्मचारियों को शीघ्र अति शीघ्र प्राथमिकता के आधार पर वैक्‍सीन लगाई जाए, ताकि इन कर्मचारियों का मनोबल बना रहे और अपनी सेवाएं पब्लिक को अच्छे से देते रहें। कर्मचारी प्रदेश सरकार से विद्युत बोर्ड के कर्मचारी किसी की पदोन्नति को लेकर के या वेतन बढ़ोतरी की मांग नहीं कर रहे हैं।

उन्‍होंने ऊर्जा मंत्री सुखराम से भी आग्रह कि विद्युत कर्मचारियों के मुखिया होने के नाते उनकी सुरक्षा सुनिश्‍चित करें। विद्युत कर्मचारियों को फेस कवर सीटें, मास्क, सैनिटाइजर, ग्लब्ज आदि उपकरण भी मुहैया नहीं करवाए जा रहे। यूनियन ने मांग की कि बोर्ड प्रबंधन सभी अधिशासी अभियंता और सहायक अभियंताओं को आदेश जारी करें कि कर्मचारियों को मास्क सैनिटाइजर और ग्लब्स शीघ्र अति शीघ्र उपलब्ध करवाए जाएं।

error: Content is protected !!