सोलन बिजली विभाग ने की बड़ी कार्रवाई की है। आपको बता दे की सोलन तहसीलदार कार्यालय ने लगभग पिछले पांच साल से बिजली बिल जमा न करवाने पर शुक्रवार को विद्युत बोर्ड ने तहसीलदार कार्यालय सोलन का कनेक्शन काट दिया। उपायुक्त ने बिजली विभाग से अनुरोध किया और फिर बाद में बिजली विभाग ने पुना कनेक्शन दोबारा जोड़ दिया। जानकारी के मुताबिक बोर्ड ने मिनी सचिवालय स्थित एसी टू डीसी, एसडीएम, चेयरमैन ई गवर्नेंस, जिला सूचना अधिकारी और तहसीलदार कार्यालय को नोटिस जारी कर दो दिन में बकाया बिजली बिल जमा करवाने के लिए कहा है।

इसके बाद तीन मार्च को कनेक्शन काट दिया जाएगा। बिजली बोर्ड की इस कार्रवाई की आम जनता में खूब प्रशंसा हो रही है। तहसीलदार कार्यालय सोलन का बिल पिछले पांच वर्षों से जमा नहीं हुआ है। इसका 31 लाख 87 हजार 503 रुपये का बिल बकाया है। सोलन के सभी पांच कार्यालयों की कुल बकाया रकम 53 लाख 6 हजार 735 रुपये है।

जिले में 100 करोड़ रुपये के बिल लंबित :- राज्य विद्युत बोर्ड लिमिटेड सोलन की जिले में लगभग सौ करोड़ रुपये की बकाया राशि व्यावसायिक और घरेलू उपभोक्ताओं के पास लंबित है। अकेले आईपीएच विभाग के 31 करोड़ रुपये बकाया हैं। अन्य कई बड़े प्रतिष्ठानों में भी रकम काफी ज्यादा है।

राकेश ठाकुर ने यह जानकारी देते हुए कहा कि जिले में करीब 100 करोड़ के बिजली बिल लेना बाकी हैं। इसमें 31 करोड़ आईपीएच विभाग के हैं।अन्य सरकारी कार्यालय भी कई वर्षों से बिल जमा नहीं करवा रहे हैं। पांच सरकारी कार्यालयों को नोटिस जारी कर बिल जमा करवाने के लिए कहा गया है। इनमें मिनी सचिवालय और तहसील कार्यालय शामिल हैं। इनसे करीब 53 लाख रुपये की राशि बकाया है। अगर बिल जमा न हुए तो बोर्ड तीन मार्च को सभी विभागों के कनेक्शन काट देगा।

error: Content is protected !!