चुनाव आयोग ने विधानसभा चुनाव में प्रचार के दौरान स्टार प्रचारकों, नेताओं के मास्क नहीं पहनने को लेकर सख्त हिदायत दी है। इलेक्शन कमीशन (EC) ने राजनीतिक दलों से पिछले साल कोविड-19 को लेकर जारी निर्देशों का गंभीरता से पालन करने को कहा है। आयोग ने साफ किया है कि अगर राजनीतिक दल कोरोना गाइडलाइंस का पालन नहीं करेंगे तो उनके सार्वजनिक बैठकों, रैलियों पर बैन लगा दिया जाएगा।

रैलियों में आने वाली भीड़ को खतरा
सभी मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों के नेताओं को भेजे एक पत्र में चुनाव आयोग ने कहा है कि देशभर में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। यह देखने में आया है कि चुनावी बैठकों, प्रचार के दौरान आयोग के निर्देशों को दरकिनार करते हुए सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क पहनने के नियमों का पालन नहीं किया जा रहा है।

ऐसे में राजनीतिक दलों के नेताओं और उम्मीदवारों के साथ चुनावी सभा में बड़ी संख्या में हिस्सा लेने वाले लोगों के भी संक्रमित होने का खतरा बना रहता है। लोगों ने भी इसके लिए सोशल मीडिया पर नेताओं को खूब ट्रोल किया है। इसलिए नियमों का पालन हर हाल में किया जाना चाहिए।

हाईकोर्ट ने EC और केंद्र को भेजा है नोटिस
दिल्ली हाईकोर्ट ने चुनाव प्रचार के दौरान मास्क पहनने को लेकर दायर एक याचिका पर सुनवाई करते हुए चुनाव आयोग और केंद्र को नोटिस भेजा था। कोर्ट मामले की अगली सुनवाई 30 अप्रैल को करेगी। कोर्ट से याचिकाकर्ता ने ऐसे प्रचारकों और प्रत्याशियों को विधानसभा चुनावों में प्रचार से रोकने का अनुरोध किया था जो महामारी के दौरान कोरोना गाइडलाइन का बार-बार उल्लंघन कर रहे हैं।

error: Content is protected !!