Right News

We Know, You Deserve the Truth…

हिमाचल में बंदिशों का ऐलान होते ही पलायन करने लगे मजदूर, विकास कार्य हाे सकते हैं प्रभावित

शिमला : हिमाचल में कोरोना कर्फ्यू में सख्त बंदिशों का ऐलान होते ही मजदूरों ने यहां से पलायन शुरू कर दिया है। शिमला के आईएसबीटी बस अड्डे में रविवार को कोरोना कर्फ्यू के बावजूद सैंकड़ों की संख्या में मजदूर पहुंच गए। यहां से बसों के माध्यम से सैंकड़ों मजदूर अपने घरों को रवाना हुए। कम संख्या में बसें चलने के कारण कई मजदूर बीते साल की तरह पैदल ही अपने घरों को निकल पड़े। बंदिशों से घबराकर मजदूर सुरक्षित अपने घर जाना जा चाह रहे हैं जबकि राज्य में निर्माण कार्य पहले की तरह चलते रहेंगे, ऐसे में निर्माण कार्य में लगे मजदूरों को घबराने की जरूरत नहीं है। मजदूर के पलायन प्रदेश में इससे आने वाले दिनों में विकास कार्य ठप्पहाेने का संकट मंडराने लगा है। बीते साल भी लॉकडाऊन में हजारों मजदूरों वापस चले गए थे। इससे विभिन्न निर्माण कार्य, कृषि व बागवानी कार्य सहित उद्योगों में कामकाज ठप्प हो गए थे। इस वजह से सेब की फसल का तुड़ान, ढुलान व भरान कार्य और सड़कों की टारिंग जैसे काम बुरी तरह प्रभावित हुए थे।

इन राज्यों के मजदूर लौट रहे घर
घर लौट रहे मजदूरों में बीते साल की तरह लॉकडाऊन जैसा खौफ देखा गया। लिहाजा मजदूर अपना सारा सामान लेकर घरों को चल दिए हैं। राजधानी से ज्यादातर मजदूर सहारनपुर, बिहार, उत्तर प्रदेश, हरियाणा के लौट रहे हैं। इसी तरह प्रदेश के अन्य जिलों से भी मजदूर घरों को भाग रहे हैं। प्रदेश में जो मजदूर शेष बच गए हैं। ऐसे वक्त में ठेकेदारों, साधन संपन्न लोगों और उन व्यक्तियों को मजदूरों का ध्यान रखना होगा, जिनके पास वे काम करते हैं
मुख्यमंत्री ने दिए थे मजदूरों को रोकने के निर्देश

राज्य सरकार को भी मजदूरों के पलायन का डर था। इसे देखते हुए बीते दिनों मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिए थे कि मजदूर राज्य से बाहर न जाएं। इसके लिए उन्हें जागरूक करने को कहा था, लेकिन कोरोना कर्फ्यू में लगाई गई इन बंदिशों के बीच निर्माण कार्य जारी रखने का संदेश अच्छे से लोगों के बीच नहीं दिया जा सका। इस वजह से मजदूर प्लायन कर रहे हैं।

पहले की तरह चलते रहेंगे निर्माण कार्य

शिमला के जिलाधीर आदित्य नेगी ने बताया कि निर्माण कार्य पहले की तरह चलते रहेंगे। इन्हें नहीं रोका जा रहा है। कार्यस्थल पर सामाजिक दूरी, मास्क पहनने के नियम का सभी को पालन करना होगा। मजदूरों को डरने की जरूरत नहीं है।

error: Content is protected !!