हिमाचल प्रदेश पुलिस महानिदेशक संजय कुंडू द्वारा हिमाचल प्रदेश पुलिस प्रशिक्षण महाविद्यालय का भ्रमण किया गया। भ्रमण के दौरान माननीय पुलिस महानिदेशक द्वारा हिमाचल प्रदेश पुलिस प्रशिक्षण में संचालित किए जा रहे विभिन्न कोर्सों का अवलोकन करके लॉयर स्कूल कोर्स के 439 प्रशिक्षुओं और इनडोर/ आउटडोर प्रशिक्षकों को संबोधित किया। अपने संबोधन में उन्होंने प्रशिक्षुओं का मार्गदर्शन करते हुए बताया कि प्रशिक्षण जवानों को अपने दैनिक कार्यों को निष्पादित करने में कुशलता, निपुणता व व्यवहारिक कौशलता प्रदान करता है। उन्होंने प्रशिक्षणार्थियों को बतलाया कि आप अपने प्रशिक्षण को मेहनत और लगन से पूरा करके समाज सेवा के लिए तैयार करें। क्योंकि समाज पुलिस से बहुत अपेक्षाएं रखता है।

उन्होंने यह भी बताया कि कोविड-19 के चलते हिमाचल प्रदेश पुलिस द्वारा सराहनीय सेवाएं निष्पादित की गई है जिसके लिए समूचा पुलिस पल बधाई का पात्र है। साल 2020 में पुलिस ने हर क्षेत्र में अच्छा काम किया है जिसके फलस्वरूप अपराधों में भी कमी आई है और पुलिस की साख आम जनमानस के बीच अच्छी बनी है। पदोन्नति और प्रशिक्षण के विषय पर उन्होंने बताया कि इस प्रक्रिया को पूरी पारदर्शिता के साथ कम समय में अमल में लाया जाएगा और सभी पात्र पुलिस बल के सदस्यों को समय पर पदोन्नति मिल सके यह सुनिश्चित किया जाएगा। आने वाले वर्ष 2021 में लगभग 300 अन्वेषण अधिकारियों को विभिन्न- विभिन्न क्षेत्रों जैसे साइबर क्राइम, महिलाओं से संबंधित अपराधों इत्यादि में निपुण बनाया जाएगा ताकि वह अन्वेषण को व्यवहारिक तौर पर पूरा कर  सकें।

इस मौके पर पुलिस प्रशिक्षण महाविद्यालय द्वारा सरल हिन्दी भाषा में तैयार की गई भारतीय दंड संहिता की पुस्तक का भी विमोचन किया। इस पुस्तक में समावेशित  पाठ्यक्रमों को पुलिस प्रशिक्षण महाविद्यालय के इंडोर स्टॉफ के अधिकारियों पुलिस उप अधीक्षक राजेश शर्मा, निरीक्षक प्रवीण राणा और सहायक उप निरीक्षक टेकचंद द्वारा तैयार किया गया है। पुलिस महानिदेशक द्वारा आज पुलिस की भूमि स्थित वनूरी पालमपुर का भी निरीक्षण किया गया। जिससे सशस्त्र पुलिस एवं प्रशिक्षण अनुभाग  को शिमला से बनूरी पालमपुर स्थानांतरित करने की प्रक्रिया को गतिमान मिलेगा।

error: Content is protected !!