Right News

We Know, You Deserve the Truth…

वोट ना देने पर दलितों पर अत्याचार, 6 को पीट पीट कर घायल और निर्वस्त्र करने का आरोप

उत्तर प्रदेश के महोबा जिले में पंचायत चुनाव प्रतिद्वंद्विता को लेकर एक पूर्व ग्राम प्रधान, पूर्व ब्लॉक विकास परिषद (बीडीसी) के सदस्य और चार अन्य लोगों को कथित तौर पर निर्वस्त्र कर पीटे जाने का अरोप लगाया गया है। पीड़ित सभी लोग दलित समुदाय से हैं।

पुलिस ने इस बात से इनकार किया है कि पीड़ितों के कपड़े उतारे गए लेकिन कड़ी धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज होने के बाद गुरुवार को दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। घटना जिले के श्रीनगर थाना क्षेत्र के तिंडोली गांव की बताई जा रही है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, पीड़ितों में से एक, जो एक पूर्व ग्राम प्रधान के भाई हैं, उन्होंने कहा कि उनने भाई रामलाल, विश्वनाथ, चावीलाल, महेश और बाबूराम को आरोपी राम विशाल माली और उनके भाई रामश्री ने मंगलवार की शाम किसी बात पर बात करने के बहाने अपने घर पर बुलाया था।

रामलाल पूर्व ग्राम प्रधान हैं, महेश पूर्व बीडीसी सदस्य हैं और रामश्री ने हाल ही में पंचायत चुनाव लड़ा था। हीरालाल और उनके समुदाय के सदस्यों ने रामश्री को वोट नहीं दिया था जिससे आरोपी नाराज हो गए थे।

पीड़िता के घर पहुंचने के बाद आरोपी भाइयों ने कथित तौर पर उनके कपड़े उतारे और फिर उनकी बेरहमी से पिटाई की। हीरालाल ने आगे आरोप लगाया कि जब उसकी पत्नी उसकी तलाश में आई तो आरोपी ने उसे जातिसूचक गालियां दीं। एडिशनल एसपी महोबा, आर.के. गौतम ने इस बात से इनकार किया कि पीड़ितों के कपड़े उतारे गए थे। उन्होंने कहा कि मामले की जांच जारी है।

इससे पहले बीते दिनों मोहबा में एक दलित के साथ अत्याचार का मामला सामने आया था। खबरों के मुताबिक, एक गांव में ऑनलाइन मीटिंग के दौरान ग्राम प्रधान को कुछ दबंग लोगों ने कुर्सी से यह कहते हुए नीचे उतार दिया था कि वो कुर्सी पर बैठने के लायक नहीं है। इस दौरान दबंगों ने जातिसूचक शब्द भी कहे थे। इस पर वहां विवाद हो गया था। सूचना पर पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था।


error: Content is protected !!