वायरल पत्र मामले में पूर्व सीपीएस नीरज भारती के खिलाफ एफआईआर दर्ज, पुलिस ने बुलाया थाने

Read Time:2 Minute, 57 Second

हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्य संसदीय सचिव नीरज भारती की मुश्किलें और बढ़ गई हैं। राज्य सरकार के एक मंत्री के खिलाफ गुमनाम पत्र मामले में वह भी आरोपित बनाए गए हैं। आरोप है कि गुमनाम पत्र को अपने फेसबुक अकाउंट से उन्होंने आगे शेयर किया। इससे यह इंटरनेट मीडिया में वायरल हो गया। शिमला स्थित सीआइडी के साइबर थाने में भारती के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। अब जल्द ही सीआइडी इनसे पूछताछ करेगी। इससे पहले भी एक मामले में उनके खिलाफ सीआइडी ने केस दर्ज किया था।

सीआइडी के राज्यस्तरीय भराड़ी थाने में यह मामला दर्ज हुआ था। अभी इसकी चार्जशीट कोर्ट में पेश की जाएगी।

इसमें भारती की गिरफ्तारी भी हुई थी। हालांकि जिस व्यक्ति ने मंत्री के खिलाफ पत्र लिखा था। उसका सही पता भी मालूम नहीं हो पाया है। उसे भी खोजा जा रहा है। इसी संबंध में आरोपित नीरज भारती से पूछताछ होगी।

वायरल पत्र में एक मंत्री और महिला नेता पर कई संगीन आरोप लगाए गए हैं। इंटरनेट मीडिया में वायरल पत्र में दोनों के रंगरलियां मनाने और भ्रष्‍टाचार के भी आरोप लगाए हैं। खैर इन आरोपों का कोई सुबूत नहीं है। पूर्व सीपीएस ने भी इस वायरल पत्र को शेयर किया था, हालांकि उन्‍होंने बाद में इसे ड‍िलीट भी कर दिया था। लेकिन अब सीआइडी क्राइम ब्रांच ने इन पर शिकंजा कस दिया है।

बताया जा रहा है सीआइडी ने नीरज भारती को क्राइम ब्रांच थाने में हाजिर होने का आदेश दिया है। इसके बाद पूर्व संसदीय सचिव ने इंटरनेट मीडिया पर भाजपा सरकार व नेताओं पर जमकर निशाना साधा है। उन्‍होंने आरोप लगाया कि यह पत्र भाजपा संगठन के ही किसी कार्यकर्ता ने जारी किया है, पत्र में भी नीचे लिखा हुआ है। नीरज भारती ने दोबारा अपने फेसबुक अकाउंट पर यह पत्र शेयर कर लिया है।

error: Content is protected !!
Hi !
You can Send your news to us by WhatsApp
Send News!