नौकरी छोड़ जनसंपर्क अभियान में जुटे यह तीन बड़े डॉक्टर, विधानसभा चुनावों में बन सकते है उम्मीदवार

0
39

शिमला। हिमाचल प्रदेश में साल के अंत में होने वाले चुनाव के लिए हिमाचल के तीन बड़े अस्पतालों के एमएस (चिकित्सा अधीक्षक) ने भी ताल ठोंक दी है। इंदिरा गांधी मेडिकल कालेज एवं अस्पताल (आइजीएमसी) शिमला, सुपर स्पेश्येलिटी अस्पताल चमियाणा व रिपन अस्पताल तीनों के एमएस ने सेवा से त्यागपत्र या स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस) के लिए सरकार को नोटिस भेजा है। तीनों डाक्टर चुनावी समर में उतरने की तैयारी में हैं। अब प्रदेश सरकार को राजधानी शिमला के तीन बड़े अस्पतालों के लिए नए चिकित्सा अधीक्षक (एमएस) तलाशने होंगे।

आइजीएमसी के एमएस डा. जनक राज ने त्यागपत्र के लिए तीन माह का नोटिस सरकार को दिया है। वहीं, सुपर स्पेश्येलिटी अस्पताल चमियाणा के एमएस डा. ललित चंद्रकांत ने वीआरएस के लिए आवेदन किया है। रिपन अस्पताल से डा. लोकेंद्र शर्मा ने भी वीआरएस के लिए आवेदन कर दिया है। इन्होंने भाजपा के टिकट के लिए नौकरी छोड़ी है। डा. जनक राज चंबा जिला के भरमौर विधानसभा क्षेत्र से टिकट के लिए आवेदन कर सकते हैं। वहीं डा. लोकेंद्र शर्मा ठियोग से पार्टी की टिकट के लिए दावेदार हो सकते हैं। डा. ललित चंद्रकांत इस बार फिर से नाचन विधानसभा क्षेत्र से टिकट के लिए आवेदन करेंगे।

तीनों जनसंपर्क अभियान में जुटे

तीनों डाक्टर लंबे समय से अपने क्षेत्र में जनसंपर्क अभियान में डटे हैैं। इसके लिए स्वास्थ्य जांच के साथ अन्य शिविरों का आयोजन भी लगातार किया जा रहा है। डा. जनक राज भरमौर में कई कार्यक्रमों में शामिल हो रहे हैं। कुछ दिन पहले बद्दी में हुए गद्दी मिलन समारोह में भी मुख्य अतिथि थे।

पिछली बार भी तीनों ने ही किया था आवेदन

तीनों डाक्टरों ने पिछली बार भी विधानसभा चुनाव में भाजपा की टिकट के लिए आवेदन किया था। चुनाव के लिए नोटिस भी दिया था। टिकट न मिलने के बाद नोटिस वापस ले लिया था। इसके बाद से ही तीनों एमएस के पद पर सेवारत हैं। इन डाक्टरों के चुनावी समर में उतरने के बाद चर्चा राजनीतिक गलियारों में गर्मा गई है।

Leave a Reply