नाचन में मुख्यमंत्री और भाजपा विधायक का जनाधार हो चुका है खत्म; कांग्रेस टिकटार्थी सुरेश कुमार

0
503

हिमाचल में जैसे जैसे चुनाव नजदीक आ रहे है, भाजपा की बेसिर पैर की राजनीतिक गतिविधियां बहुत तेजी से बढ़ रही है। भाजपा के विधायक और मुख्यमंत्री प्रदेशभर में जनाधारहीन प्रदर्शन करने में कोई कमी नही छोड़ रहे। यह कहना है कांग्रेस के नाचन विधानसभा क्षेत्र से टिकट पर दावेदारी जताने वाले राइट फाउंडेशन के अध्यक्ष सुरेश कुमार का।

उन्होंने कहा कि नाचन में वर्तमान विधायक विनोद कुमार का जनाधार पूरी तरह खत्म हो चुका है और यह बात पिछले कल नाचन में हुए भाजपा के कार्यक्रम से साफ हो चुकी है। नाचन के विधायक ने अपना झूठा जनाधार दिखाने के लिए सरकारी कर्मियों, आंगनबाड़ी कर्मियों, महिला मंडलों व स्कूल के बच्चों को जबरदस्ती आदेश देकर व एचआरटीसी की बसों को भेज कर कार्यक्रमों में बुलाया था। उनका कहना है कि नाचन के विधायक द्वारा आदेश देकर सरकारी कर्मियों को मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में बुलाने के बावजूद वहां उतनी भीड़ नही थी जितनी होनी चाहिए थी।

उन्होंने कहा कि विधायक ने नाचन, बल्ह, सुंदरनगर और सराज से लोगों को मुख्यमंत्री कार्यक्रम में बुलाया था। जिसके लिए बाकायदा आदेश जारी किए गए थे और सभी सरकारी कर्मियों को उपस्थित होने को कहा गया था। एक एक विधानसभा में लगभग 200-200 बसें लोगों को लाने के लिए भेजी गई थी। जिनकी कैपेसिटी कम से कम 36 सवारियों की थी। उन्होंने बताया कि इस तरह एक एक विधानसभा से 7000 लोग मुख्यमंत्री के कार्यक्रम आने चाहिए थे और कार्यक्रम में लोगों की संख्या 25000 के आस पास होनी चाहिए थी। जबकि मौके पर बड़ी मुश्किल से छह हजार लोग भी नही पहुंचे थे।

उन्होंने आगे कहा कि बड़ी शर्म की बात है कि नाचन के विधायक के अपने कार्यक्रम में मुख्यमंत्री को भीड़ दिखाने के लिए स्कूल के बच्चों को भी नही बक्शा। आजादी का महोत्सव नाम देकर नाचन से मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के कार्यक्रम में 9 स्कूलों, 2 कॉलेजों और आईटीआई चच्योट के बच्चों को राजनीतिक कार्यक्रम में बुलाया था। उन्होंने कहा कि नाचन में मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर और भाजपा विधायक विनोद कुमार का जनाधार पूरी तरह खत्म हो चुका है। जिसका प्रत्यक्ष प्रमाण पिछले कल नाचन के कोट में हुए कार्यक्रम में देखने को मिल चुका है। भाजपा सरकार ने पिछले पांच सालों में नाचन की जनता की समस्याओं की ओर कोई ध्यान नही दिया, जिसके कारण लोग अब विधायक और मुख्यमंत्री के कार्यक्रम तक में नही जाना चाहते।

उन्होंने कहा कि 25000 लोगों के प्रबंधन के बावजूद कार्यक्रम में महज छह हजार लोगों का पहुंचना वर्तमान विधायक की मौजूदा हालात को बयान करता है। उन्होंने कहा कि नाचन के विधायक अगर चुनाव नही हारना चाहते तो उनको 2022 के चुनावों से चुपचाप किनारा कर लेना चाहिए। नही तो उनको हार का दाग सहन करना पड़ेगा। मुख्यमंत्री के कार्यक्रम एक बावजूद इतनी कम संख्या में आम जनता का पहुंचना बेहद शर्मनाक है। केवल सरकारी कर्मियों, आंगनबाड़ी कर्मियों और महिला मंडलों की महिलाओं का कार्यक्रम में पहुंचना वर्तमान विधायक की हार होने की ओर बड़ा इशारा है।

उन्होंने कहा कि नाचन से इस बार भाजपा के टिकट पर एक बड़ा बिजनेस मैन, एक डॉक्टर और वर्तमान विधायक दावेदारी जता रहे है, लेकिन 25000 लोगों के प्रबंधन होने के बाबजूद एक चौथाई लोगों का पहुंचना भाजपा की हार निश्चित कर रहा है। जिसका साफ मतलब है कि वर्तमान विधायक अपना जनाधार को चुके है और नाचन से कांग्रेस 100 प्रतिशत और भारी मतों से विजयी होगी।

Leave a Reply