रूस ने यूक्रेन के दूसरे सबसे बड़े बिजली संयंत्र पर किया कब्जा, कीव पर मिशाइलों से हमला

0
41

Russia Ukraine Crisis : रूस-यूक्रेन की जंग (Russia Ukraine War) में हर दिन तबाही और विध्वंस देखा जा रहा है। बृहस्पतिवार को रूसी सेना (Russian Army) ने पूर्वी दोनेस्क क्षेत्र में यूक्रेन के दूसरे सबसे बड़े बिजली संयंत्र (Power Plant) को अपने कब्जे में ले लिया है, जबकि दक्षिणी क्षेत्र में सैनिकों का जमावड़ा बढ़ा दिया है।

मॉस्को (Moscow) की मिसाइलों (Missiles) ने लंबे अर्से बाद कीव क्षेत्र में बुनियादी ढांचे (Basic Infrastructure) पर हमला किया है। उधर, खेरसॉन शहर में यूक्रेन ने रूसी कब्जे वाले क्षेत्र पर जवाबी हमले (Attacks) तेज कर दिए हैं।

रूसी सेना ने सोवियत काल (Soviet era) के कोयले (Coal) से चलने वाले वुहलेहिरस्क बिजली संयंत्र (Vuhlehirsk power plant) पर कब्जा कर लिया है। ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय (UK Defense Ministry) ने कहा, रूस दक्षिणी यूक्रेन के मेलितोपोल, जपोरिज्जिया और खेरसॉन (Kherson) क्षेत्र में बड़े पैमाने पर सैनिकों की पुनर्नियुक्ति कर रहा है। रूसी मिसाइलों (Russian Missiles) ने कथित तौर पर कीव क्षेत्र में बुनियादी ढांचे पर भी बृहस्पतिवार को हमला किया है। यहां हफ्तों से निशाना नहीं साधा गया था।

यूरोपीय बैंक से यूक्रेन को मिलेंगे 1.62 अरब डॉलर
यूक्रेन को यूरोपीय निवेश बैंक (ईआईबी) से करीब 1.6 यूरो (करीब 1.62 अरब डॉलर) दिए जाएंगे। यूक्रेनी प्रधानमंत्री डेनिस श्माइहाल ने यह घोषणा की है। उन्होंने कहा, क्षतिग्रस्त बिजली, पानी और गर्मी आपूर्ति सुविधाओं की बहाली सहित यूक्रेन को गर्मी के मौसम में तैयार रहने संबंधी गतिविधियों के लिए यह धन दिया जाएगा।

यूक्रेनी सेना ने पुल उड़ाया
यूक्रेन की सेना ने दोनेस्क क्षेत्र के दक्षिणी हिस्से में उस पुल को उड़ा दिया है जिसका इस्तेमाल रूसी सैनिक खेरसॉन में घुसने के लिए करते रहे हैं। इस पुल पर अब तक मॉस्को का समर्थन करने वाले यूक्रेनी अलगाववादियों का कब्जा था।

Leave a Reply