राहुल गांधी का कांग्रेस अध्यक्ष बनने से इंकार, गहलोत बोले, राहुल को मनाने के लिए आखिर तक होगा प्रयास

0
50

नई दिल्ली। राहुल गांधी के इन्कार के बावजूद कांग्रेस की अंदरूनी सियासत में उन पर अध्यक्ष बनने के लिए दबाव बनाने का सिलसिला अभी थमा नहीं है। पार्टी के तमाम नेताओं की ओर से जहां खुलकर राहुल गांधी से ही पार्टी की कमान थामने का अनुरोध किया जा रहा है वहीं कई प्रदेश कांग्रेस इकाईयों की ओर से इस सिलसिले में प्रस्ताव पारित कर आलाकमान को भेजे जाने की तैयारी की जा रही है।

खास बात यह है कि फिलहाल कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए सबसे मुफीद और प्रबल दावेदार माने जा रहे राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी कहा है कि राहुल गांधी को मनाने के लिए आखिर तक प्रयास किया जाएगा।

पार्टी के सियासी गलियारों में भारी हलचल

कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव कराने की तारीख तय करने के लिए कार्यसमिति की 28 अगस्त को बुलाई गई बैठक के मद्देनजर पार्टी के सियासी गलियारों में भारी हलचल है और पार्टी के नेता राहुल गांधी पर दबाव बढ़ाने के लिए आखिरी जोर लगाने की रणनीति पर अपने-अपने हिसाब से मंत्रणा कर रहे हैं। सूत्रों के अनुसार कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, झारखंड, राजस्थान, छत्तीसगढ सरीखे कुछ प्रदेश कांग्रेस इकाईयों ने तो पार्टी के संगठन महासचिव को संदेश भेजा है कि वे राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने के लिए अपनी तरफ से पहल को आगे बढ़ाना चाहते हैं और इसके लिए वे प्रस्ताव भी पारित करने को तैयार हैं। हालांकि एआइसीसी से इस बारे में प्रदेश इकाईयों को कोई संदेश अभी तक नहीं भेजा गया है।

प्रदेश कांग्रेस की कई इकाईयां प्रस्ताव पारित करने की तैयारी में

प्रदेश कांग्रेस इकाईयों के प्रस्ताव के जरिए राहुल पर दबाव बढ़ाने के इन प्रयासों के बारे में पूछे जाने पर बिहार प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष मदनमोहन झा ने दैनिक जागरण से कहा कि इसमें कोई शक नहीं है कि कांग्रेस के तमाम कार्यकर्ता ही नहीं देश की जनता यह महसूस कर रही है कि राहुल गांधी फिर से अध्यक्ष बनकर पार्टी और देश का नेतृत्व करें। राज्यसभा में नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के बेटे कर्नाटक कांग्रेस के नेता और विधायक प्रियांक खड़गे ने भी कहा इसमें संदेह नहीं कि सोनिया गांधी, राहुल और प्रियंका की देश में सबसे ज्यादा स्वीकार्यता है। पार्टी के लिए गांधी परिवार एक चुंबक की तरह है और जनता के साथ कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच उनकी राष्ट्रीय अपील है।

कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव में हो सकता है दो-तीन हफ्ते विलंब से

प्रियांक ने यह भी कहा कि अशोक गहलोत अध्यक्ष पद के लिए एक बेहतर पसंद हैं मगर राहुल या प्रियंका में से कोई अध्यक्ष बने तो पार्टी के लिए ज्यादा मुफीद होगा। इस बीच संकेत हैं कि कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव में दो-तीन हफ्ते विलंब से हो सकता है और सितंबर के आखिर की जगह यह अक्टूबर मध्य तक पूरा होगा। कुछ राज्यों के संगठन चुनाव प्रक्रिया में हुई देरी के साथ कांग्रेस की कन्याकुमारी से कश्मीर तक सात सितंबर से शुरू होने जा रही भारत जोड़ो यात्रा से जुड़ी राजनीतिक गतिविधियों के कारण यह मामूली देरी होगी। लेकिन पार्टी सूत्रों ने साफ किया है कि अक्टूबर तक कांग्रेस का नया अध्यक्ष चुन लिया जाएगा। कांग्रेस कार्यसमिति 28 अगस्त को अपनी बैठक में चुनाव कार्यक्रमों और तारीखों को मंजूरी देगी।

Leave a Reply