राहुल गांधी ने केंद्र सरकार से पूछे 10 प्रश्न, कहा, कांग्रेस को डराने से खत्म नहीं होती जवाबदेही

0
43

दिल्ली। महंगाई और सांसदों के निलंबन के चलते गतिरोध में फंसी मानसून सत्र की कार्यवाही के बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशाना साधते हुए उनसे दस सवाल पूछे हैं।

कांग्रेस नेता ने कहा कि मानसून सत्र में हम प्रधानमंत्री से जनता के मुद्दों पर चर्चा करना चाहते थे। जनता के कई सवाल थे जिनके जवाब प्रधानमंत्री और उनकी सरकार को देने थे। लेकिन उनकी तानाशाही देखिए, सवाल पूछने पर प्रधानमंत्री इतने नाराज हो गए कि 57 सांसदों को गिऱफ्तार करा दिया और 23 को निलंबित।

ईडी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे सांसदों को हिरासत में लिए जाने के बाद राहुल गांधी ने फेसबुक पोस्ट के जरिए सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि संसद में जो सवाल नहीं पूछने दिए जा रहे वो यहां राजा से पूछ रहे हैं। कांग्रेस नेता ने पहला सवाल पूछा है कि 45 सालों में आज सबसे ज्‍याद बेरोजगारी क्यों है? हर साल दो करोड़ रोजगार देने के वादे का क्या हुआ?

दूसरा सवाल है कि जनता के रोजमर्रा के खाने पीने की चीजों जैसे दही-अनाज पर जीएसटी लगा कर, उनसे दो व़क्त की रोटी क्यों छीन रहे हैं? तीसरा सवाल है कि खाने का तेल, पेट्रोल डीजल और सिलेंडर के दाम आसमान छू रहे हैं, जनता को राहत कब मिलेगी? चौथा कि डालर के मुकाबले रुपये की कीमत 80 पार क्यों हो गई?

पांचवा सवाल है कि आर्मी में दो वर्षों से एक भी भर्ती नहीं करके, सरकार अब ‘अग्निपथ’ योजना लाई है, युवाओं को चार साल के ठेके पर ‘अग्निवीर’ बनने पर मजबूर क्यों किया जा रहा है? छठा प्रश्न है कि लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश में चीन की सेना, हमारी सीमा में घुस चुकी है, आप चुप क्यों हैं और आप क्या कर रहे हैं?

सातवां सवाल है कि फसल बीमा से इंश्योरेंस कंपनियों को करोड़ों का फायदा करवा दिया, मगर 2022 तक किसानों की ‘आय दोगुनी’ करने के अपने वादे पर चुप, क्यों? आठवां सवाल कि किसान को वाज‍िब कीमत के वादे का क्या हुआ? किसान आंदोलन में शहीद हुए किसानों के परिवारों को मुआवजा मिलने का क्या हुआ?

नौंवा, वरिष्ठ नागरिकों के रेल टिकट में मिलने वाली 50 फीसद छूट को बंद क्यों किया गया? जब अपने प्रचार पर इतना पैसा खर्च कर सकते हैं तो, बुजुर्गों को छूट देने के लिए पैसे क्यों नहीं हैं? दसवां, केंद्र सरकार पर 2014 में 56 लाख करोड़ कर था, वो अब बढ़ कर 139 लाख करोड़ हो गया है, और मार्च 2023 तक 156 लाख करोड़ हो जाएगा, आप देश को कर्ज में क्यों डुबा रहे हैं?

राहुल ने कहा कि सवालों की लिस्ट बहुत लंबी है लेकिन पहले प्रधानमंत्री इन 10 सवालों का जवाब दे दें। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी को डराने-धमकाने से आपकी जवाबदेही खत्म नहीं हो जाएगी, हम जनता की आवाज हैं और लोगों के मुद्दे उठाते रहेंगे।

Leave a Reply