मंडी में पीएम की रैली में 45 साल के ऊपर के लोगों को नही मिलेगी एंट्री, जानिए कैसे मैदान में आएंगे 1 लाख युवा

0
67

शिमला: (Himachal assembly election 2022) हिमाचल में धीरे-धीरे चुनावी माहौल रंग पकड़ता जा रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 24 सितंबर को रैली के लिए मंडी ((PM Modi rally in Mandi) )आएंगे और इसके साथ ही हिमाचल में भाजपा का चुनावी शंखनाद होगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली के लिए भाजपा ने एक लाख युवाओं को जुटाने का लक्ष्य रखा है. चूंकि ये रैली भारतीय जनता युवा मोर्चा की है और इसमें युवाओं को मुख्य रूप से संबोधित किया जाना है, लिहाजा रैली का हिस्सा भी युवा ही होंगे.

एक बूथ से 20 युवा जुटाने का टारगेट: मोदी की इस रैली में 45 साल से अधिक के लोगों को एंट्री नहीं ((No entry in PM Modi Mandi rally) ) मिलेगी. यानी रैली में 18 साल से लेकर 45 साल की आयु के युवा शामिल होंगे. भाजपा के प्रदेश भर में 7781 बूथ हैं. सभी विधायकों, मंत्रियों आदि को एक बूथ से 20 युवा जुटाने का लक्ष्य दिया गया है. इस तरह रैली में एक लाख की संख्या आसानी से संभव है. यदि हर बूथ से 20 युवा रैली में आए तो ये संख्या 1.55 लाख से अधिक होगी. आवागमन के अलावा अन्य दिक्कतों को देखें तो हर बूथ से 15 युवा भी आए तो भी संख्या एक लाख से अधिक होगी.

कांग्रेस के खिलाफ मनोवैज्ञानिक बढ़त: भाजपा पीएम नरेंद्र मोदी की रैली से जरिए बड़ा संकेत देना चाहती है. इसी रैली के माध्यम से कांग्रेस के खिलाफ मनोवैज्ञानिक बढ़त लेने का भी मकसद है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंडी में पहले भी रैलियां कर चुके हैं. वे आम जनता के साथ कनेक्ट करने के लिए स्थान विशेष की भावनात्मक शब्दावलियों को प्रयोग करते हैं. मंडी में आने पर वे यहां के व्यंजन और शिव मंदिरों को याद करते हैं. इस बार चूंकि रैली युवाओं की है, इसलिए नरेंद्र मोदी हिमाचल की युवा शक्ति के साथ संवाद स्थापित करेंगे.

हर विधायक और बूथ की हो जाएगी स्कैनिंग: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में तय संख्या को सुनिश्चित करने के लिए भाजपा कई दिनों से तैयारी कर रही है. कैबिनेट मीटिंग में गुरुवार को रैलियों की तैयारी पर चर्चा होगी. इसके अलावा संगठन के स्तर पर भी तैयारियां चल रही हैं. हर बूथ में स्थानीय नेतृत्व को निर्देश दिए गए हैं. यही नहीं, भाजपा ने इस बार एक अभिनव प्रयोग करने का फैसला लिया है. रैली में प्रवेश द्वारों पर क्यूआर कोड स्कैन होगा. इसका लाभ ये होगा कि यदि रैली में विधानसभा विशेष से कम युवा आएं तो उसका पता चल सके.

जयराम ठाकुर की रैली पर नजर: वहीं, भारतीय जनता युवा मोर्चा इसके लिए अलग से पहचान पत्र जारी कर रहा है. संगठन के स्तर पर भी पार्टी के अन्य मोर्चों व प्रकोष्ठों को जिम्मेदारियां दी गई हैं. खुद सीएम जयराम ठाकुर रैली की तैयारियों की निरंतर समीक्षा कर रहे हैं. वहीं, भाजपा के चुनाव प्रभारी सौदान सिंह व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सुरेश कश्यप भी रैली को सफल बनाने में जुटे हुए हैं. भाजपा अध्यक्ष सुरेश कश्यप का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली ऐतिहासिक होगी. भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष अमित ठाकुर के अनुसार मोर्चा के सदस्य सक्रिय हैं और रैली को सफल बनाने के लिए कई दिनों से तैयारियों में जुटे हैं. अब ये देखना दिलचस्प होगा कि कांग्रेस व आम आदमी पार्टी की रोजगार संबंधी गारंटियों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी रैली में क्या मास्टर स्ट्रोक चलते हैं.

Leave a Reply