Monkeypox: भारत का पहला मंकीपाक्स मरीज हुआ ठीक, जल्द ही मिलेगी अस्पताल से छुट्टी

0
43

तिरुवनंतपुरम: केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीना जार्ज ने शनिवार को घोषणा की कि देश का पहला मंकीपाक्स मरीज पूरी तरह से ठीक हो गया है और उसे अस्पताल से जल्द ही छुट्टी दे दी जाएगी।

केरल का 35 वर्षीय मूल निवासी 12 जुलाई को संयुक्त अरब अमीरात से यहां आया था और दो दिन बाद मंकीपाक्स वायरस से संक्रमित हो गया था। जब उनमें लक्षण विकसित हुए तो उन्हें कोल्लम के एक अस्पताल में ले जाया गया और वहां से उन्हें त्रिवेंद्रम मेडिकल कालेज अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया था। जिसके बाद से उन पर लगातार नजर रखी जा रही थी।

स्वास्थ्य मंत्री वीना जार्ज ने कहा कि पूरे उपचार प्रोटोकाल की योजना नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलाजी, पुणे द्वारा बनाई गई थी। समय-समय पर उनके नमूने लिए गए और उसकी जांच की गई। अब तक सभी नमूनों का दो बार नकारात्मक परीक्षण किया गया है और अब मरीज पूरी तरह से ठीक हो गया है।

शुरूआत में संक्रमित व्यक्ति के आने के बाद उसके माता-पिता और उसके साथ यात्रा करने वाले 11 अन्य यात्रियों के साथ घनिष्ठ संपर्क पर भी चिंता व्यक्त की गई थी। लेकिन स्वास्थ्य अधिकारियों ने आश्वासन दिया था कि आशंकाओं को दूर करते हुए सभी संपर्कों को बारीकी से देखा जा रहा है और उन पर नजर रखी जा रही है।

वीना जार्ज ने यह भी कहा कि राज्य में दो अन्य मंकीपाक्स के पाजिटिव मामले भी मीडिल ईस्ट से आए हैं, जिनकी हालत स्थिर है और वे भी तेजी से ठीक हो रहे हैं।

मंकीपाक्स के लक्षण शरीर पर सुस्ती आना खुजली की समस्या होना बार-बार तेज बुखार आना पीठ और मांसपेशियों में दर्द होना त्वचा पर दाने और चकत्ते पड़ना गला खराब होना और बार-बार खांसी आना

मंकीपाक्स से बचाव के तरीके संक्रमित रोगियों को अलग रखना चाहिए साबुन और हैंड सैनिटाइजर का उपयोग करना चाहिए विदेश यात्रा से आने पर अपना चेकअप कराना चाहिए संक्रमित के संपर्क में आने के बाद हाथ अच्छे से धोने चाहिए

ऐसे फैलता हैं मंकीपाक्स

मंकीपाक्स किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से, संक्रमित व्यक्ति के कपड़े, तौलिया, बिस्तर जैसी चीजों का इस्तेमाल करने से, संक्रमित जानवर के काटने से, उसके खून, शरीर के तरल पदार्थ को छूने से भी फैलता है।

Leave a Reply