कुर्सी जाने के डर से 3 वोल्वो बसों में 41 विधायक भर कर खूंटी पहुंचे मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन

0
51

Jharkhand Politics: सियासी उथल-पुथल के बीच हेमंत सोरेन 3 वॉल्वो बसों में 41 विधायकों के साथ खूंटी में लतरातू डैम पर बने रिजॉर्ट में अपना डेरा डालने जा रहे हैं। इन विधायकों में कांग्रेस, झामुमो और आरजेडी के विधायक शामिल हैं। सोरेन विधायक दल के साथ खूंटी के लिए रांची से रवाना हो गए हैं। विधायकों के साथ सीएम हेमंत सोरेन ने सेल्फी भी ली। बता दें कि इससे पहले सीएम के आवास पर UPA विधायकों की बैठक भी हुई थी।

सूत्रों के अनुसार हेमंत सोरेन इस कदम के लिए दो-तीन दिन पहले से ही तैयारी कर रहे थे। सरकार के क्राइसिस मैनेजरों ने कोलकाता की एक कंपनी से दो वॉल्वो बस को बुक करा लिया था। वहीं, सभी विधायकों को रांची से बाहर जाने की तैयारी करने का निर्देश दे दिया गया था। खैर इस बात की चर्चा जोरों पर तो थी लेकिन JMM और कांग्रेस के दिग्गज विधायकों ने इस बात का खंडन करते हुए कहा था कि हम सभी विधायकों को एकजुट कर रहे हैं न कि किसी को बाहर ले जाने की तैयारी कर रहे।

रातों-रात ऑपरेशन को दिया गया अंजाम

पर्दे के पीछे से सभी विधायकों को रांची से बाहर ले जाने की तैयारी पहले से ही चल रही थी। इसकी पटकथा छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के 10 अगस्त को रांची दौरे वक्त तैयार कर ली गई थी। देर रात 2 बजे से सरकार के संकट मोचकों ने यूपीए के सभी विधायकों के घर दस्तक देना शुरू किया और कई विधायकों को वॉल्वो बस के लिए तैयार रहने को कहा गया। उन्हें किस रिसॉर्ट में ठहराया जाएगा, इसकी सूचना अभी गुप्त रखी गई। पूरी सतर्कता के साथ ऑपरेशन को अंजाम दिया गया।

किसी को भनक तक नहीं लगी और विधायकों का खेमा पहुंच गया खूंटी

UPA विधायकों को झारखंड से बाहर शिफ्ट करने के ऑपरेशन को हेमंत सोरेन के करीबी रणनीतिकारों ने बड़े ही गोपनीय ढंग से अंजाम दिया। कई विधायकों को आधी रात में ही उनके घरों से उठा लिया गया और कड़ी सुरक्षा के बीच उन्हें शिफ्ट किया गया। खबर किसी तरह से लीक ना हो, इसे लेकर बस ड्राइवर और दूसरे कर्मियों के मोबाइल बंद करवा दिए गए थे। इस ऑपरेशन की गोपनियता का इसी बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि देखते ही देखते 41 विधायक एक साथ किसी दूसरी जगह शिफ्ट हो गए और किसी को इस बात की भनक तक नहीं लगी और पता भी चला तो तब जब वे लोग चुपके से शिफ्ट हो गए।

Leave a Reply