सोलन के क्षेत्रीय हॉस्पिटल में उड़ रहे धूल के गुबार, मरीज हो रहे परेशान, जाने पूरा मामला

0
43

सोलन। क्षेत्रीय अस्पताल सोलन में निजी कंपनी क्रस्ना डायग्नोस्टिक की टेस्टिंग लैब का ढांचा तैयार किया जा रहा है। इसके लिए अस्पताल की दीवारों और दरवाजा को तोड़कर बड़ा किया जा रहा है, ताकि मशीनरी को आसानी से लैब में स्थापित किया जा सके।

मगर लैब स्थापित करने के लिए किया जा रहा कार्य मरीजों के लिए परेशानी का सबब बन गया है। दीवारों की तोड़-फोड़ से यहां धूल-मिट्टी के गुबार उड़ रहे हैं, जिससे मरीजों को अच्छी खासी परेशानी हो रही है।

आपको बता दें कि जहां पर निजी लैब को स्थापित किया जा रहा है उसके ठीक सामने सरकारी लैब चल रही है। निजी लैब को स्थापित करने के लिए किए जा रहे कार्य से उड़ने वाली धूल-मिट्टी सरकारी लैब के अंदर तक फैल रही है। उल्लेखनीय है कि सरकारी लैब में रोजाना दोपहर 12.00 बजे तक टेस्ट के सैंपल लिए जाते हैं। मगर धूल-मिट्टी के कारण सैंपल देने के लिए आने वाले मरीजों को खासी परेशानी हो रही है। मरीज मूंह ढककर सैंपल देने के लिए आ रहे हैं। धूल से लैब में पड़े सैंपल के खराब होने का भी डर है।

गौर हो कि सोलन अस्पताल में करीब चार महीने पहले एसआरएल लैब का टेंडर खत्म हुआ। इसके बाद नए टेंडर दूसरी कंपनी क्रस्ना डायग्नोस्टिक को मिला है। अस्पताल की दीवारों को तोड़कर यहां पर मशीनों को फिट करने के लिए जगह बनाई जा रही है। कंपनी अस्पताल के चार कमरों में लैब के लिए कमरे तैयार कर रही है। मशीनें फिट न होने की वजह से मरीजों के सैंपल मोहाली भेजे जा रहे है। सोलन के अलावा सिरमौर के मरीज भी भारी संख्या में उपचार करवाने के लिए क्षेत्रीय अस्पताल का रूख करते है।

उधर, क्षेत्रीय अस्पताल एमएस एसएल वर्मा ने कहा कि अस्पताल में क्रस्ना डायग्नोस्टिक अपनी लैब फिट कर रही है और यहां पर मशीनें भी लगाई जा रही है। जल्द ही काम पूरा होने के बाद मरीजों को इसकी सुविधा मिलनी शुरू हो जाएगी।

Leave a Reply