गौमूत्र की खरीद शुरू; छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री बने पहले ग्राहक, 5 लीटर मूत्र बेच कर कमाए नकद 20 रुपए

0
46

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गुरुवार को हरेली के उत्साह के बीच गौमूत्र बेचकर देश की अपनी तरह की पहली और अनूठी गौमूत्र खरीदी योजना की शुरुआत की। सीएम बघेल ने निधि स्व-सहायता समूह, चंदखुरी को 5 लीटर गौमूत्र बेचकर 20 रुपए प्राप्त किए। बोहनी के तौर पर मिले रकम को मुख्यमंत्री सहायता कोष में जमा किया जाएगा।

गौमूत्र से बनाए जाएंगे दो प्रकार के खाद

इस दौरान श्री बघेल ने कहा कि गौमूत्र से दो प्रकार के खाद, जीवामृत और ब्रम्हास्त्र बनाए जाएंगे और जैविक खाद को आगे बढ़ाएंगे। एक दिन हमारा प्रदेश जैविक प्रदेश कहलाएगा। उन्होंने कहा कि हमारी बेटी और बहन होशियार होती जा रही हैं। गौमाता, धरतीमाता की पूजा हम करते हैं। अक्ति के दिन हमने माटी पूजन का कार्यक्रम रखा था। वहीं भाजपा पर निशाना साधते हुए सीएम बघेल ने कहा कि गोबर खरीदी की शुरुआत के बाद भाजपा का दिमाग खराब हो गया हैं। उन्होंने बताया कि गोबर से 150 करोड़ की आमदनी हुई और सब मिलकर गौठानों से 300 करोड़ रुपए मिले हैं।

ग्रामीण परिवेश में सजाया गया सीएम हाउस

हरेली तिहार के आयोजन के लिए मुख्यमंत्री आवास को ग्रामीण परिवेश में सजाया गया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने परिवार के साथ हरेली पूजा कर आयोजन की शुरुआत की। इस उत्सव में गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत, मंत्री कवासी लखमा, अनिला भेंडिया, महिला आयोग अध्यक्ष किरणमयी नायक के अलावा बड़ी संख्या में किसानों और स्व-सहायता समूह की बहनें जुटी हैं।

Leave a Reply