Ankita Murder Case: 12वीं की छात्रा को जिंदा जलाने वाले शाहरुख का दोस्त भी हुआ गिरफ्तार, जाने मामले से जुड़ी 10 बड़ी बातें

0
233

Jharkhand Dumka Death Case: झारखंड के दुमका में 12वीं की छात्रा पर उसी के मोहल्ले के लड़के शाहरुख (Shahrukh) ने पेट्रोल डालकर आग लगा दी थी. आग लगने के बाद छात्रा अंकिता (Ankita) की इलाज के दौरान मौत हो गई. पुलिस ने इस मामले में आरोपी शाहरुख और उसके दोस्त नईम अंसारी उर्फ छोटू को गिरफ्तार कर लिया है.

बताया जा रहा है कि नईम अंसारी ने ही शाहरुख को पेट्रोल दिया था. इस मामले को लेकर राष्ट्रीय महिला आयोग (NCW) ने झारखंड पुलिस प्रमुख (DGP) को पत्र भी लिखा है. जानिए इस केस से जुड़ी बड़ी बातें:

1. दुमका के जरुआडीह मोहल्ले की रहने वाली 12वीं की छात्रा अंकिता को उसी के मोहल्ले का शाहरुख नामक युवक कई महीनों से परेशान कर रहा था. वह उस पर शादी के लिए दबाव डाल रहा था. बीती 22 अगस्त की रात उसने अंकिता को जान से मारने की धमकी दी थी. मंगलवार सुबह जब घर के सभी लोग सो रहे थे, तो शाहरुख ने घर में घुसकर अंकिता पर पेट्रोल छिड़कर आग लगा दी.

2. आग लगने के बाद अंकिता 90 प्रतिशत तक झुलस गई थी और शनिवार देर रात इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई. अंकिता की मौत के बाद दुमका से लेकर रांची तक जनाक्रोश भड़क गया. दुमका में लोगों ने अंकिता को न्याय दिलाने के लिए प्रदर्शन किया. वहीं सोशल मीडिया पर भी इस कांड को लेकर अभियान शुरू हो गया. लोगों के विरोध को देखते हुए दुमका में धारा-144 लगा दी गई.

3. विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने रविवार को दुमका कस्बे के दुधानी चौक पर प्रदर्शन जोरदार किया. बीजेपी ने भी इस घटना की कड़ी निंदा की और झारखंड में कानून व्यवस्था की स्थिति पर सवाल उठाया.

4. इस मामले में पुलिस ने पहले आरोपी शाहरुख को गिरफ्तार किया और आज शाहरुख के दोस्त नईम अंसारी उर्फ छोटू को भी गिरफ्तार कर लिया. कहा जा रहा है कि नईम अंसारी ने ही शाहरुख को पेट्रोल दिया था.

5. झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने अंकिता के परिजनों को 10 लाख रुपये की सहायता राशि और इस केस की फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई का एलान किया. साथ ही सीएम ने कहा कि समाज में कई तरह की कुरीतियां देखने को मिल रही हैं. ये घटना दिल दहला देने वाली है और कानून अपना काम कर रहा है. आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है. हमारी कोशिश है कि उसे जल्द से जल्द सजा मिले. सीएम हेमंत सोरेन ने कहा कि हम दोषियों को बख्शेंगे नहीं. ऐसे लोगों को माफ नहीं किया जाना चाहिए, उन्हें सख्त से सख्त सजा दी जानी चाहिए. ऐसी घटनाओं के लिए मौजूदा कानूनों को और मजबूत करने के लिए कानून लाया जाना चाहिए.

6. छात्रा की मौत पर झारखंड के राज्यपाल रमेश बैस ने गहरा शोक व्यक्त किया है. उन्होंने कहा कि इस तरह की जघन्य घटना राज्य के लिए शर्मनाक है. उन्होंने मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाने का आदेश दिया है और पीड़ित परिवार को तत्काल 2 लाख रुपये का अनुदान दिया है.

7. झारखंड के पूर्व सीएम रघुबर दास ने राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि जिस तरह एक बदमाश ने उसके घर में घुसकर लड़की को आग लगा दी, उससे हमारा समाज और झारखंड शर्मसार है. हेमंत सोरेन सरकार में, राज्य में महिलाओं के खिलाफ 1000 से अधिक घटनाएं हुईं. मैं इस सरकार से एक एसआईटी गठित करने की मांग करता हूं. राज्य में कोई भी सुरक्षित नहीं.

8. केंद्रीय मंत्री और झारखंड के पूर्व सीएम अर्जुन मुंडा ने राज्य सरकार से कई सवाल पूछे. उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाओं के लिए कौन जिम्मेदार है? क्या पीड़ित को बचाने के लिए उचित उपाय किए गए थे? आरोपी को कैसे दंडित किया जाएगा? राज्य सरकार को जवाब देना चाहिए. राज्य सरकार बताए कि दोषियों को सजा दिलाने के लिए वह क्या कर रही है. ऐसे लोगों का मनोबल कैसे बढ़ा है? भविष्य में ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो, यह सुनिश्चित करने के लिए प्रशासन क्या कर रहा है? मैं मांग करता हूं कि राज्य सरकार एक स्पेशल टास्क फोर्स का गठन करे जो समय पर चार्जशीट दाखिल करे और फैसला समय पर आए ताकि लोगों को कानून पर भरोसा हो और न्याय हो.

9. इस केस को लेकर राष्ट्रीय महिला आयोग ने झारखंड पुलिस प्रमुख को पत्र लिखा और निष्पक्ष जांच की मांग की. एनसीडब्ल्यू प्रमुख ने कहा कि चूंकि आरोपी की गिरफ्तारी पहले ही हो चुकी है, इसलिए हमने झारखंड के डीजीपी से की गई कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी. ये कैसी मानसिकता है कि आप किसी महिला को जबरदस्ती शादी के लिए कहते हैं और अगर वह मना करती है, तो उसे आग लगा देंगे, यह दयनीय है.

10. अंकिता हत्याकांड (Ankita Murder Case) को लेकर देश भर में रोष देखा जा रहा है. लगभग सभी दलों ने झारखंड सरकार से आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की बात कही है. एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने इस भी इस भयावह घटना की निंदा की. ओवैसी ने कहा, “दुमका में हुई घटना बेहद निंदनीय है. किसी भी स्तर की निंदा पर्याप्त नहीं होने वाली है. यह अमानवीयता का एक बड़ा उदाहरण है. एक युवक ने एक छोटी बच्ची को जिंदा जला दिया. आरोपी को कानून के तहत सख्त सजा दी जाना चाहिए.”

Leave a Reply