चक्की पूल पर काम कर रहे 12 लोग पानी में फंसे, हाइड्रोलिक मशीनों से बचाई जान

0
81

नूरपुर। Chakki Khad, रविवार शाम को हुई बारिश के कारण एक बार फिर से चक्की खड्ड का जलस्तर बढ़ जाने से वहां काम में जुटे 12 लोग पानी के बीच फंस गए थे। इन्हें हाइड्रालिक मशीनों से सुरक्षित खड्ड से बाहर निकाल लिया गया। खड्ड में कुछ पोकलेन व टिप्पर काम में लगे थे कि अचानक खड्ड में पानी का बहाव तेज हो गया।

NHAI के अधिकारियों ने तुरंत एक्शन में आते हुए हाइड्रालिक मशीनों से काम में लगे कर्मचारियों को बाहर निकाल लिया। चक्की खड्ड में अचानक पानी आने से एक बार फिर पानी का अधिकांश बहाव असुरक्षित पिल्लरों की तरफ बढ़ गया, जिससे एक बार फिर चक्की पुल के पिल्लरों में पी-1 व पी-2 खतरे की चपेट में आ गए हैं। NHAI, पुलिस व प्रशासन ने तुरंत एक्शन लेते हुए चक्की पुल पर यातायात पूरी तरह से बहाल कर दिया है। पहले दोपहिया वाहन चक्की पुल से गुजर रहे थे, लेकिन रविवार शाम को पुल के किनारों पर मिट्टी डालकर कर पुल को पूरी तरह से बंद कर दिया गया।

चक्की खड्ड का बहाव मोडऩे का काम पूरा

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) व सेना की टीम ने पठानकोट-मंडी राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित चक्की खड्ड का बहाव मोडऩे का कार्य पूरा कर लिया है। यह कार्य पिछले चार दिन से किया जा रहा था। एनएचएआइ के परियोजना निदेशक कर्नल अनिल सेन दिन-रात टीम के साथ मौके पर डटे रहे।

चक्की खड्ड पुल को खतरे को देखते हुए बुधवार रात चक्की पुल से दोबारा यातायात बंद किया था। पठानकोट के लिए वाहनों की आवाजाही वाया भदरोआ की जा रही है। कर्नल अनिल सेन ने बताया कि रविवार दोपहर पानी का बहाव मोडऩे का काम पूरा कर लिया है। टीम पुल के पिलर एक व दो की सुरक्षा के लिए क्रेट लगाने में जुट गई है और दो-तीन दिन के भीतर यह कार्य पूरा कर लिया जाएगा।

राइजिंग स्टार कोर की पेनिरेंड ब्रिगेड ने पंजाब-हिमाचल सीमा पर चक्की खड्ड का बहाव मोडऩे में सफलता पा ली है, जिससे बड़ा नुकसान टल गया है।

Leave a Reply