जहां लाइट बंद, वहां कम पैदा हुए हैं बच्चे.., पाकिस्‍तानी रक्षा मंत्री ख्‍वाजा आसिफ का अजीबो गरीब बयान

0

पाकिस्‍तानी रक्षा मंत्री ख्‍वाजा आसिफ का एक वीडियो सामने आया है। वीडियो में उन्हें जनसंख्‍या नियंत्रण को लेकर एक अजीब बयान देते हुए देखा गया है। ऐसे में उनके इस बयान को लेकर काफी चर्चा भी हो रही है।

पाकिस्‍तान के रक्षा मंत्री ख्‍वाजा आसिफ का एक वीडियो सामने आया है जिसकी खूब चर्चा हो रही है। दरअसल, कर्ज के बोझ तले दबे पाकिस्तान की आर्थिक हालात में जान फूंकने के लिए सरकार द्वारा अलग-अलग उपायों का एलान किया गया है।

ऐसे में प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर जब इन घोषणाओं का एलान किया गया था। इसके बाद रक्षा मंत्री ख्‍वाजा आसिफ इन घोषणाओं पर बोलते हुए एक बयान दिया है जिससे यह साफ नहीं हुआ है कि वह क्या बोलना चाह रहे है।

रक्षा मंत्री ख्‍वाजा आसिफ ने क्या कहा

दरअसल, प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में देश की आर्थिक संकट पर चर्चा करने के बाद रक्षा मंत्री ख्‍वाजा आसिफ मीडिया के लोगों से बातचीत कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने बयान देते हुए कहा कि ”पाकिस्‍तान में जहां बाजार आठ बजे बंद की गई हैं, वहां पर बच्‍चों की तादाद कम है। वहां बच्‍चे कम पैदा होते हैं।’ हालांकि मंत्री के इस बयान से यह साफ नहीं हुआ है कि वह क्या कहना चाह रहे थे। ऐसे में इस बयान को लेकर काफी चर्चा हो रही है और इसे लेकर विवाद भी छिड़ गया है।

गौरतलब है कि नकदी संकट से जूझ रहे पाकिस्तान ने मंगलवार को ऊर्जा संरक्षण योजना के तहत विभिन्न उपायों की घोषणा की, जिनमें बाजारों और मैरिज हॉल को जल्दी बंद किया जाना शामिल है। सरकार अर्थव्यवस्था में नई जान फूंकने के प्रयास कर रही है। ऐसे में इसी प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के बाद रक्षा मंत्री ख्‍वाजा आसिफ ने यह बयान दिया है जो चर्चा का विष्य बना हुआ है।

पाकिस्तान सरकार ने क्या-क्या घोषणाएं की है

आपको बता दें कि कैबिनेट ने ऊर्जा बचाने और आयातित तेल पर निर्भरता कम करने के लिए राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण योजना को मंजूरी दी है। रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ ने कैबिनेट की बैठक के बाद मीडिया को बताया कि कि बाजार रात 8.30 बजे बंद हो जाएंगे, जबकि मैरिज हॉल 10.00 बजे बंद हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि इससे 60 अरब रुपये बच सकेंगे।

उन्होंने विभिन्न उपायों की घोषणा करते हुए कहा कि एक फरवरी से पारंपरिक बल्बों का उत्पादन बंद कर दिया जाएगा, वहीं अधिक बिजली की खपत करने वाले पंखों का उत्पादन जुलाई से बंद कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि इन उपायों से 22 अरब रुपये बचाने में मदद मिलेगी।

Previous articleअंजलि नशे की हालत में थी, मृतक की दोस्त और चश्मदीद निधि का बड़ा खुलासा
Next articleनेहरू युवा केंद्र द्वारा आयोजित कार्यक्रम में बोले जिला पार्षद विजय भाटिया, कहा, युवाओं को एक सूत्र में बंधना अति आवश्यक

समाचार पर आपकी राय: