Taliban Crisis: काबुल में यूक्रेन के विमान हुआ हाईजैक, प्लेन को ले गए ईरान

अफगानिस्तान (Afghanistan) की राजधानी काबुल (Kabul) में यूक्रेन (Ukraine) के एक विमान को अज्ञात लोगों ने हाईजैक (Hijacked) कर लिया. ये विमान यूक्रेनी नागरिकों को बाहर निकालने के लिए अफगानिस्तान पहुंचा था.

यूक्रेन के डिप्टी विदेश मंत्री येवगेनी येनिन (Yevgeny Yenin) ने मंगलवार को इसकी जानकारी दी. मंत्री ने कहा, ‘पिछले रविवार को कुछ लोगों द्वारा हमारे विमान को हाईजैक कर लिया गया. मंगलवार को ये विमान हम से गायब कर दिया गया. यूक्रेनी लोगों को एयरलिफ्ट करने के बजाय विमान में सवार कुछ लोग इसे ईरान ले गए. हमारे तीन अन्य एयरलिफ्ट प्रयास सफल नहीं हो पाए, क्योंकि हमारे लोग एयरपोर्ट तक नहीं पहुंच पाए.’

यूक्रेन के डिप्टी विदेश मंत्री के मुताबिक, हाईजैकर्स हथियारों से लैस थे. हालांकि, मंत्री ने इस बात की जानकारी नहीं दी कि विमान को क्या हुआ या क्या कीव इस विमान को वापस लाने की कोशिश करेगा. इसके अलावा, यूक्रेनी नागरिक काबुल से कैसे वापस आए और क्या कीव (Kiev) द्वारा यात्रियों की वापसी के लिए एक दूसरा विमान भेजा गया था. ये कुछ सवाल हैं, जिन्हें लेकर मंत्री ने कोई जानकारी नहीं दी है. येनिन ने सिर्फ इस बात को रेखांकित किया कि पूरी राजनयिक सर्विस विदेश मंत्री दिमित्री कुलेबा (Dmitry Kuleba) के नेतृत्व में पूरे सप्ताह काम करती रही है.

100 यूक्रेनी अफगानिस्तान से बाहर आने की राह देख रहे

रविवार को 31 यूक्रेनी नागरिकों सहित 83 लोगों के साथ एक सैन्य विमान अफगानिस्तान से कीव पहुंचा. यूक्रेन के राष्ट्रपति कार्यालय ने बताया कि इस विमान के जरिए 12 यूक्रेनी सैन्यकर्मियों की स्वदेश वापसी हुई है. इसके अलावा, विदेशी पत्रकार और मदद मांगने वाले कुछ लोगों को भी बाहर निकाला गया है. कार्यालय ने ये भी बताया कि लगभग 100 यूक्रेनी नागरिक ऐसे हैं, जो अभी भी अफगानिस्तान से बाहर निकाले जाने के इंतजार में बैठे हुए हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) द्वारा अफगानिस्तान से सैनिकों की वापसी के ऐलान के बाद से ही तालिबान ने तेजी से कार्रवाई करते हुए मुल्क पर कब्जा जमाया है.

अपने नागरिकों को बाहर निकाल रहे दुनिया के कई मुल्क

15 अगस्त को तालिबान के लड़ाकों ने काबुल पर कब्जा जमा लिया. कुछ ही घंटों के भीतर लड़ाकों का पूरी राजधानी पर नियंत्रण हो गया. वहीं, इससे पहले ही देश के राष्ट्रपति अशरफ गनी (Ashraf Ghani) देश छोड़कर भाग गए. उन्होंने बाद में एक वीडियो जारी कर बताया कि उन्होंने मुल्क इसलिए छोड़ा ताकि खूनखराबे को रोका जा सके. दूसरी ओर, देश के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने संविधान का हवाला देते हुए खुद को देश का कार्यवाहक राष्ट्रपति घोषित किया है. वर्तमान समय में पश्चिमी मुल्कों समेत कई देश अपने नागरिकों को अफगानिस्तान से बाहर निकाल रहे हैं.

error: Content is protected !!