एलियंस के लिए चुम्बक का काम करती है यह जगह, पिछले दो दशकों में दिखे 200 से ज्यादा यूएफओ

World News: लोगों का दावा करना कि उन्होंने एलियंस (Aliens) और यूएफओ (UFO) देखा है. इनसे जुड़ी ख़बरें, रिसर्च या कोई तस्वीर वायरल होना बहुत आम हो गया है. अब हाल ही में डेव (Dave) नाम के एक शख्स ने यह दावा किया है कि उन्होंने एक या दो नहीं बल्कि कई सारे यूएकओ देखें हैं.

यह जगह बन गई है एलियंस का पसंदीदा अड्डा?

उन्होंने एक इंटरव्यू (Interview) में एक जगह का जिक्र करते हुए यह कहा है कि अगर किसी को लगता है कि एलियंस या यूएफओ नहीं होते तो उन्हें वहां कुछ दिन रुक कर आसमान में देखना चाहिए. उनके मुताबिक यह जगह यूएफओ के लिए मैगनेट (Acts as magnet for UFOs) का काम करती है. हम आपको बता दें कि वह जिस जगह का जिक्र कर रहे हैं वह यॉर्कशायर (Yorkshire) है.

जहां के लिए यह दावा किया जाता है कि पिछले दो दशकों में वहां 200 से ज्यादा यूएफओ देखे गए हैं. ताज़ा मामला 3 हफ्ते पहले का है, जब एक जेट पैसेंजर ने सिगार के आकार की चीज को उनके एयरक्राफ्ट के पास उस वक़्त उड़ते हुए देखा था जब वह यॉर्कशायर के पास उड़ान भर रहे थे. आपको बता दें कि इस जगह को गॉड्स ओन कंट्री (God’s own country) भी कहा जाता है.

लोगों ने यॉर्कशायर के आसमान में क्या देखा?
जानकारी के मुताबिक कई और लोग जिन्होंने यूएफओ देखा है उन्होंने बताया कि उन्हें फ्लैशिंग लाइट्स (Flashing lights) , फायरबॉल्स (fireballs) और अजीब से समुद्री घोड़े के आकार की चीजें यॉर्कशायर के आसमान में दिखीं.

सरकार ने यूएफओ की फिल्मिंग पर लगाया बैन

यह सिलसिला 2009 तक जारी रहा. जिसके बाद रक्षा मंत्रालय ने इस मामले में संज्ञान लिया और उनकी फिल्मिंग पर पाबंदी लगा दी. जिसकी वजह से यूएफओ वॉचर्स (UFO watchers) को लगने लगा कि शायद सरकार नहीं चाहती कि यॉर्कशायर के एलियन हॉटस्पॉट (Alien hotspot) बनने का फैक्ट सबके सामने आए. आपको बता दें कि 2009 में 38 अलग जगह यूएफओ देखे गए. जिनमें से एक 20 फरवरी को ब्रैडफोर्ड (Bradford) में देखा गया था. उसी साल 26 अप्रैल को एक हडर्सफील्ड (Huddersfield) में स्पॉट किया गया था. इसके बाद जून में एक ट्रैफिक कंट्रोलर ने नार्थ यॉर्कशायर (North Yorkshire) और सितंबर में एक शख्स ने फिले (Filey) में अंजान किस्म की रौशनी को देखने का दावा किया.

Get delivered directly to your inbox.

Join 61,547 other subscribers

error: Content is protected !!