भारी भरकम बिजली बिल देकर उपभोक्ताओं को सरेआम चूना लगाकर लूट रही है भाजपा सरकार और बिजली बोर्ड- एन. के. पन्डित

0
4

सदर ब्लॉक कांग्रेस कमेटी मण्डी के सचिव व कांग्रेस पार्टी के तेज तर्रार नेता जो हर मुद्दे पर भाजपा सरकार को घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ते, उन्होंने भाजपा सरकार और बिजली बोर्ड पर गंभीर आरोप जड़ते हुए कहा कि विभाग द्वारा उपभोक्तओं को भारी भरकम बिल थमाकर सरेआम लूट रहा है। विजली बोर्ड और जय राम की भाजपा सरकार मूक दर्शक बनकर तमाशा देख रही है।

एन. के. पन्डित ने जय राम सरकार पर हिमाचल कि राजधानी शिमला से ताबड़ तोड़ हमला बोलते हुए कहा कि जिला बिलासपुर के पंजगाईं से एक उपभोक्ता ने उनको अपना बिल भी दिखाया जिसमे इस महीने का बिल 178 यूनिट का रूपये 1365 और पिछले महीने का बिल यूनिट 240 बिल 801 रूपये, ये कैसी मशीन है। बिजली बोर्ड के पास यूनिट कम बिल ज्यादा और यूनिट ज्यादा तो बिल कम। उन्होंने इस पर सवालिया निशान लगाते हुए सरकार और बोर्ड दोनों कि खूब खड़काई की। उन्होंने मीडिया को सबूत देते हुए बिभाग द्वारा भेजे गए बिल भी दिखाए।

कांग्रेस पार्टी के तेज तर्रार नेता और सदर ब्लॉक मण्डी कांग्रेस कमेटी के सचिव एन. के. पन्डित ने भाजपा सरकार पर राजधानी शिमला से बड़ा राजनीतिक हमला बोलते हुए कहा कि भाजपा सरकार और विजली बोर्ड उपभोक्ताओं को सरेआम लूटकर करोड़ों रूपये कि उग्राही कर रही है जो कतई सहन नहीं होगा। उन्होंने कहा कि वैसे भी अब जय राम सरकार अपनी अंतिम सांसे गिन रही है। पन्डित ने उन सभी उपभोक्ताओं को आश्वाशन देते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी सत्ता में आते ही प्रदेश के लाखों उपभोक्ताओं को न्याय दिलाते हुए इस मुद्दे कि जाँच करेगी। वैसे भी कांग्रेस पार्टी ने सत्ता में आने पर अपनी गारंटी में हिमाचल प्रदेश के सभी उपभोक्ताओं को 300 यूनिट फ्री विजली देने का ऐलान किया है जिस से प्रदेश के लाखों उपभोक्ताओं को सीधा लाभ मिलेगा।

कांग्रेसी नेता एन. के. पन्डित ने एक और आरोप जड़ते हुए भाजपा सरकार को घेरते हुए कहा कि मीटर रेंट के नाम पर भी हिमाचल प्रदेश के उपभोक्ताओं से करोड़ों रूपये वसूले जा रहे है जो सरेआम लूट है।

पन्डित ने मीडिया को आंकड़े जारी करते हुए कहा कि हिमाचल में घरेलु उपभोक्ता 19 लाख, वाणिज्य कमर्शियल उपभोक्ता 6 लाख, इंडस्ट्रियल उपभोक्ता 1 लाख है। कुल उपभोक्ता 26 लाख हैं। पन्डित ने कहा कि अगर मीटर रेंट कि साधारण गणना 100 रूपये पर मीटर रेंट कि करें तो 26 लाख उपभोक्ता से हर महीने भाजपा सरकार और विजली बोर्ड 26 लाख वसूल रहा है, जो की सरासर गलत है। एन. के. पन्डित ने सरकार से सवाल करते हुए कहा की जब उपभोक्ता ने मीटर लगाने को आवेदन किया तो विजली बोर्ड ने मीटर की कीमत वसूल कर ली। उन्होंने कहा की जब आपने मीटर की कीमत वसूल कर ली तो फिर हर महीने किस चीज का मीटर रेंट ले रहे हो। 26 लाख हर महीने मीटर रेंट का मतलब है, 31200000 सालाना इस आंकड़े से साबित होता है कि जय राम सरकार हिमाचल की जनता से कितना बड़ा खेल, खेल रही है। जिसका खामियाजा अब सरकार को भुगतना पड़ेगा, ये डबल इंजन नहीं ट्रबल इंजन की सरकार है। जो हिमाचल की जनता के पैसों पर सरेआम डाका डाल रही है। एन के पन्डित ने मीडिया से उम्मीद जताई है कि वो इस न्यूज़ को प्रमुखता से उठाकर जनहित में जरूर अपनी हैडलाइन बनायें क्योंकि ये करोड़ों रूपये का खेल है।

समाचार पर आपकी राय: