‘हाथ काट दिए जाए…’ तालिबान के क्रूर शासन, इस्लामी शरिया कानून के अनुसार सजा का ऐलान

काबुल: तालिबान ने वही किया, जिसकी अटकलें लगाई जा रही थी। दरअसल, काबुल की एक मस्जिद से ऐलान किया गया है कि जो लोग चोरी करते हुए या चोरी में लिप्त पाए जाते हैं, उनके हाथ इस्लाम के शरिया कानून के मुताबिक काट दिए जाएँगे। पत्रकार आदित्य राज कौल ने काबुल मस्जिद के जरिए तालिबान द्वारा किए गए ऐलान के बारे में ट्विटर पर जानकारी दी है।

इसमें कहा गया है कि जो लोग चोरी या चोरी के मामले में रंगे हाथ पकड़े जाते हैं, उनके हाथ इस्लामी शरीयत कानून के मुताबिक काट दिए जाएँगे। बता दें कि इस्लाम का शरिया कानून, मुस्लिमों को उस अपराधी के ‘हाथ काटने’ का आदेश देता है, जो चोरी में लिप्त पाया गया हो। कुरान 5:38 कहता है कि चोरी और डकैती के अपराधियों के हाथ काट दिए जाने चाहिए। गौरतलब है कि अमेरिका की सेना अब अफगानिस्तान से लौट चुकी हैं। वहाँ अब आतंकी संगठन तालिबान का राज हो गया है। बता दें कि तालिबान राज में, कातिलों को सार्वजनिक रूप से फाँसी देना, लुटेरों और चोरों के हाथ-पैर काटना और मिलावट करने वालों को पत्थर मारना एवं कोड़े मारने जैसी सजा दी जाती है।

बता दें कि अफगानिस्तान में तालिबानी आतंकियों का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है। तालिबान के इस्लामी आतंकी क्रूरता की सारी हदें पार करते हुए बेकसूर लोगों को भी मार रहे हैं। बीते दिनों तालिबान ने एक 21 वर्षीय लड़की की हत्या केवल इसलिए कर दी, क्योंकि उसने टाइट कपड़े पहने थे और उसके साथ कोई पुरुष रिश्तेदार नहीं था।

error: Content is protected !!