अध्ययन; ज्यादा पानी पीने से हुई थी ब्रूस ली की मौत, जानिए क्या अधिक पानी पीने से हो सकती है मौत

0
1

Bruce Lee Death: 1973 में 32 साल की उम्र में ब्रूस ली की मौत होने करीब 50 साल बाद एक नई स्टडी में फेमस एक्टर मार्शलआर्ट कलाकार की मौत के पीछे के सटीक कारण का खुलासा करने का दावा किया गया है. उस समय उनकी मौत की वजह बताई गई थी कि सेरेब्रल एडिमा या मस्तिष्क में सूजन होने से ब्रूस ली की मौत हुई है. ऐसा माना गया कि ब्रूस ली अधिक पेन किलर ले रहे थे. इसकी वजह से दवाओं के असर के कारण ब्रेन में सूजन आ गई. हालांकि, अब नई स्टडी में कुछ और दावा किया गया. कहा गया है कि ब्रूस ली अधिक पानी पीने पी रहे थे. उनकी किडनी बॉडी से अतिरिक्त पानी निकालने में फेल हो गई थी. इसी वजह से उनकी मौत हुई. अब यही जानने की कोशिश करते हैं कि क्या सच में पानी अधिक पीने से मौत हो सकती है? इसके शरीर पर क्या साइड इफेक्ट होते हैं.

जर्नल में पब्लिश हुई स्टडी
स्पेन में किडनी स्पेशलिस्ट के एक ग्रुप ने स्टडी को दिसंबर 2022 के संस्करण में क्लिनिकल किडनी जर्नल में पब्लिश किया. स्टडी में दावा किया गया है कि अधिक पानी निकालने में किडनी फेल हो गई थी. इसी वजह से उनकी मौत हो गई. उनके ब्लड में सोडियम का लेवल भी कम हो गया था. इससे हाइपोनेट्रेमिया जैसी स्थिति बन गई. स्टडी में कहा गया है कि ली अपने असामान्य रूप से अधिक मात्रा में तरल पदार्थ का सेवन कर रहे होंगे. इसमें बहुत सारे जूस और प्रोटीन लिक्विड शामिल हैं. उन्होेंने पॉसिबली मारिजुआना का प्रयोग किया होगा. इससे प्यास अधिक बढ़ जाती है.

पानी कैसे बना मौत की वजह?
भारतीय डॉक्टरों का कहना है कि इस स्टडी को लेकर सोचने की जरूरत है. क्या वाकई में बहुत अधिक पानी पीना हानिकारक है? मौत तक हो सकती है. पानी अधिक पीने से कुछ मौतों के मामले सामने आए हैं. इसके पीछे वजह होती है कि बहुत अधिक पानी इंट्राकैनाल पर दबाव बढ़ा सकता है. इसमें कई लक्षण उभरकर आते हैं. ओवरहाइड्रेशन और वाटर इंटॉक्सिकेशन तब होता है जब कोई व्यक्ति किडनी की क्षमता से अधिक पानी पीता है. इसे यूरिन से भी खत्म नहीं किया जाता है. लंबे समय तक ऐसी स्थिति में रहने पर मौत तक हो सकती है. डॉक्टरों ने बताया कि अधिक पानी पीने से मरने की संभावना कम होती है.

लेकिन, इसे सिरे से नकारा नहीं जा सकता है. अधिक पानी पीने से हाइपर हाइड्रेशन की समस्या हो सकती है. यह हमारी बॉडी इलेक्ट्रोलाइट्स में गड़बड़ी पैदा करता है. इससे सोडियम का लेवल तेजी से गिरता है. इससे दौरा, सेरेब्रल एडिमा और अंत में मौत तक हो सकती है. डॉक्टरों का कहना है कि नार्मल किडनी हर घंटे एक चौथाई तरल पदार्थ निकालने में सक्षम होती हैं. अधिक पानी पीने से हाइपोनेट्रेमिया हो सकता है. हल्का हाइपोनेट्रेमिया में कम लक्षण दिखते हैं, जबकि गंभीर स्थिति में भ्रम, दौरा पड़ना, कोमा में जाना और अंत में डेथ होना शामिल है।

समाचार पर आपकी राय: