भारत नेपाल सीमा के पास मजदूरों पर पत्थरबाजी, काली नदी पर बना रहे थे तटबंध, नेपाल सुरक्षाकर्मी बने मूकदर्शक

0

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में भारत-नेपाल सीमा पर पत्थरबाजी की खबर सामने आई है. यहां रविवार की शाम नेपाल की तरफ से भारतीय मजदूरों पर पत्थर फेकें गए हैं. ये मजदूर काली नदी पर तटबंध का निर्माण रहे थे. घटना धारचूला इलाके की बताई जा रही है. कुछ नेपाली नागरिक इस निर्माण का विरोध कर रहे हैं. बताया जा रहा है कि इस पूरी घटना के दौरान नेपाल सुरक्षाकर्मी दर्शक बने देखते रहे.

शुरुआती रिपोर्ट बताती है कि निर्माण कार्य में लगे भारतीय श्रमिकों पर पत्थर फेंके गए थे. सूत्रों ने कहा कि नेपाली सुरक्षा एजेंसियों ने स्थिति पर कार्रवाई नहीं की और नेपालियों द्वारा विद्रोह के मूक दर्शक बने रहे. खबरों के मुताबिक नेपाल की ओर से इससे पहले भी कई बार पत्थरबाजी की जा चुकी है. जिस इलाके में पत्थरबाजी हुई है वो नेपाल और चीन के बीच का सीमावर्ती इलाका है.

नेपाल के लोग क्यों कर रहे तटबंध का विरोध?

नेपाल की सीमा धारचूला से शुरू होती है. यहां काली नदी के एक किनारे पर भारत है और नेपाल दूसरी तरफ. भारत इस नदी के पास अपने इलाके में तटबंध का निर्माण कर रहा है लेकिन नेपाल की ओर से कई लोग इसका विरोध कर रहे हैं. इसी के चलते यहां कई बार पत्थरबाजी की गई है. विरोध कर रहे लोगों का कहना है कि इस तटबंध के बनने से उनकी ओर काली नदी से कटाव हो जाएगा.

तटबंध का निर्माण कर रहे मजदूरों पर पत्थरबाजी करने के बाद तनाव की स्थिति बन गई है. बता दें, इससे पहले साल 2020 में नेपाल की ओर से नया नक्शा जारी करने के बाद भारत और नेपाल के संबंधों में खटास आ गई थी. इस नक्शे में नेपाल ने कालापानी, लिंपियाधुरा और लिपुलेख के इलाकों को अपने क्षेत्र में दिखाया था. वहीं इन इलाकों को भारत ने अपना हिस्सा बताया था.

Previous articleपत्नी ने शराब पीने से किया मना तो पति ने छुरी से काट दी नाक, खून से लथपथ हालत में पहुंची मायके
Next articleइमरान खान का लक्ष्य सत्ता हासिल करना, भले ही पाकिस्तान की नींव कमजोर हो जाए; पीएम शाहबाज शरीफ

समाचार पर आपकी राय: