सऊदी अरब में हुई बर्फबारी, खूब शेयर हो रहे फ़ोटो और वीडियो

साल के पहले दिन सऊदी अरब के उत्तर-पश्चिमी शहर ताबुक में जमकर बर्फ़बारी हुई है. सोशल मीडिया पर इसका वीडियो ख़ूब शेयर किया जा रहा है. ताबुक क्षेत्र के पास अल-लॉज़ पर्वत पर लोग पर बर्फ़ का आनंद ले रहे हैं. सऊदी के सरकारी न्यूज़ एजेंसी एसपीए ने बर्फ़ की चादरों से ढकी कारों की तस्वीरे पोस्ट की हैं. वीडियो में लोग बर्फ़ का लुत्फ उठाते दिख रहे हैं. जबल अल-लावज़, अल-दाहेर और अल्क़ान पर्वत ढँक गए हैं. सऊदी अरब का यह उत्तरी हिस्सा पर्यटकों के बीच काफ़ी लोकप्रिय है.

अरबी अख़बार अशराक़ अल-अवसात के अनुसार, सऊदी अरब में हर साल जबल अल-लावज़, जबल अल-ताहिर और ताबुक में जबल अल्क़ान पर्वतों पर दो से तीन हफ़्ते तक बर्फ़ गिरती है. ये पहाड़ सऊदी अरब के उत्तर पश्चिमी इलाक़े में हैं. सऊदी में यहां बर्फ़ गिरने के बाद काफ़ी हलचल होती है. जबल अल-लावज़ पहाड़ 2,600 मीटर ऊंचा है. इस पर्वत को अलमंड माउंटेन भी कहा जाता है क्योंकि इसके ढलान पर बड़ी संख्या में बादाम के पेड़ लगे हुए हैं.

हर साल इस पहाड़ पर बर्फ़बारी होती है और तापमान धड़ाम से नीचे चला आता है. ताबुक का शुमार सऊदी के सबसे ख़ूबसूरत इलाक़ों में है. यहां ख़ुश्बूदार पौधे हैं जिनका इस्तेमाल परफ़्यूम बनाने में होता है. ताबुक जॉर्डन की सीमा से लगा हुआ इलाक़ा है. सऊदी में बर्फ़बारी का ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. लोग ये देख कर हैरान है कि आमतौर पर गर्म मौसम वाले देश सऊदी अरब में बर्फ़बारी हो रही है.

अल-लॉज़ पर्वत, ताबुक शहर से लगभग 200 किलोमीटर उत्तर-पश्चिम में जॉर्डन की सीमा के पास पड़ता है और यहाँ पाए जाने वाले बादाम के पेड़ों के कारण इसे जबल अल-लॉज़ कहा जाता है. अरबी भाषा में बादाम को लॉज कहते हैं. सऊदी अरब के सिविल डिफेंस ने लोगों को लो-विज़िबिलिटी के कारण सतर्क रहने के लिए आगाह किया है.

साथ ही कहा है कि सोमवार तक भारी बारिश होने की संभावना है. देश के मौसम विभाग की रिपोर्ट के अनुसार, रियाद, मक्का, मदीना, पूर्वी प्रांत अल-बहा, असीर, जज़ान, अल-क़ासिम, तबुक, अल-जौफ़ और ओला के क्षेत्रों में भारी बारिश होने की संभावना है.

Please Share this news:
error: Content is protected !!