हिमाचल कांग्रेस में मुख्यमंत्री पद को लेकर घमासान, प्रतिभा सिंह और सुक्खू आमने सामने

0

हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बने या नहीं पर पार्टी में मुख्यमंत्री पद को लेकर घमासान तेज हो गया है। पार्टी की चुनाव प्रचार कमेटी के अध्यक्ष सुखविंद्र सिंह सुक्खू के बयान पर पलटवार करते हुए प्रदेश अध्यक्ष प्रतिभा सिंह ने भी सोमवार को अप्रत्यक्ष रूप से मुख्यमंत्री पद के लिए अपनी दावेदारी जता दी है।

वहीं, सुक्खू भी मुख्यमंत्री पद के दावेदार माने जा रहे हैं। वह पहले ही कह चुके हैं कि चुने हुए विधायकों में से ही मुख्यमंत्री चुना जाएगा। प्रतिभा अभी मंडी लोकसभा क्षेत्र से सांसद हैं।

सोमवार को अमर उजाला से विशेष बातचीत में उन्होंने वर्ष 1983 और 2012 में सांसद रहते हुए वीरभद्र सिंह के मुख्यमंत्री बनने का हवाला दिया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कौन बनेगा, इसका फैसला पार्टी के चुने हुए विधायक करैंगे। हाईकमान का फैसला अंतिम होगा। कौन मुख्यमंत्री पद के लिए पात्र होंगे, इसका फैसला करने का अधिकार भी सिर्फ हाईकमान को है। उन्होंने अपने इरादे जाहिर करते हुए कहा कि वीरभद्र परिवार का नेतृत्व जनता आगे भी देखना चाहती है। यह सब कुछ वीरभद्र सिंह के प्रदेश के लोगों के प्रति पूर्ण समर्पण की वजह से है।

हर चुनौती को किया पार
प्रतिभा ने कहा कि उन्होंने हाईकमान से आदेश के बाद हर चुनौती को पार किया है। 2019 के लोकसभा चुनाव में करीब चार लाख मतों से इस सीट को पार्टी ने हारा था। इसके बाद सांसद रामस्वरूप के निधन के चलते हाईकमान ने उन्हें मंडी संसदीय क्षेत्र से उपचुनाव लड़ने का आदेश दिया था। इस चुनौती को स्वीकारते हुए उन्होंने पार्टी की झोली में सीट जीतकर डाली। फिर पार्टी ने प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया। इस आदेश को भी स्वीकारा। पूरे प्रदेश का दौरा किया। आगे भी पार्टी जो जिम्मेवारी देगी, उसे पूरी ईमानदारी से निभाया जाएगा।

40 से 45 सीटें जीतने का दावा
प्रतिभा सिंह ने कहा कि विधानसभा चुनाव में कांग्रेस कम से कम 40 से 45 सीटें जीत रही है। विधायकों की खरीद-फरोख्त जैसे कार्य हिमाचल प्रदेश में कभी नहीं हुए। आगे भी नहीं होंगे। कांग्रेस पूर्ण बहुमत से सरकार बनाएगी। उन्होंने कहा कि प्रियंका गांधी के आने से प्रदेश में कांग्रेस की सीटें और वोट दोनों बढ़े हैं।

मेट्रोपोल के कमरा नंबर 603 में देर रात तक हुआ कांग्रेस नेताओं का मंथनप्रदेश कांग्रेस की चुनाव प्रचार कमेटी के अध्यक्ष सुखविंद्र सिंह के राजधानी शिमला स्थित सरकारी आवास विधायक सदन मेट्रोपोल के कमरा नंबर 603 में रविवार देर रात तक कांग्रेस नेताओं का मंथन चला। इस दौरान सुक्खू से मिलने कई विधानसभा क्षेत्रों से समर्थक पहुंचे। जिला शिमला से कांग्रेस से बागी हुए एक निर्दलीय प्रत्याशी ने भी देर रात को सुक्खू से मुलाकात की। इस दौरान आठ दिसंबर को नतीजे घोषित होने के बाद सरकार बनाने को लेकर रणनीति बनाई गई। सोमवार सुबह सुखविंद्र सुक्खू शिमला से वापस नादौन लौटे।

प्रदेश कांग्रेस के सभी नेता विधानसभा चुनाव में पूर्ण बहुमत आने को लेकर आश्वस्त हैं। ऐसे में अब इन नेताओं ने नई सरकार के गठन को लेकर गठजोड़ करना शुरू कर दिया है। कांग्रेस के जीतकर आने वाले संभावित प्रत्याशियों से सभी बड़े नेता संपर्क करने में जुटे हैं। इसी कड़ी में दो दिनों के लिए शिमला आए सुक्खू ने कई कांग्रेस प्रत्याशियों और नेताओं से मुलाकात कर राजनीतिक हलचलें बढ़ा दी हैं। पार्टी सूत्रों ने बताया कि सुक्खू के सरकारी आवास में हुई बैठक के दौरान कई प्रत्याशियों से फोन पर संपर्क कर उनका फीडबैक लिया गया। कुछ निर्दलियों से भी इस दौरान बातचीत हुई।

Previous articleविवाहिता आत्महत्या मामले में सास और पति को अदालत ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा
Next articleचैरिटी का मकसद धर्म परिवर्तन न हो: सुप्रीम कोर्ट की सख्त टिप्पणी

समाचार पर आपकी राय: