गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर की गई पद्म पुरस्कारों की घोषणा, इन 91 हस्तियों को मिलेगा पद्म सम्मान

0

Padma Awards 2023: गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर बुधवार (25 जनवरी) को पद्म पुरस्कार विजेताओं के नामों की घोषणा की गई है. 2023 के लिए राष्ट्रपति ने 106 पद्म पुरस्कारों को प्रदान करने की मंजूरी दी है.

सूची में 6 पद्म विभूषण, 9 पद्म भूषण और 91 पद्मश्री शामिल हैं. 19 पुरस्कार विजेता महिलाएं हैं. यूपी के पूर्व सीएम मुलायम सिंह यादव को पद्म विभूषण (मरणोपरांत) से नवाजा जाएगा.

बालकृष्ण दोसी और पश्चिम बंगाल के पूर्व डॉ दिलीप महलानाबीस को भी पद्म विभूषण (मरणोपरांत) से नवाजा जाएगा. पश्चिम बंगाल के पूर्व डॉ दिलीप महलानाबीस को पद्म विभूषण (मरणोपरांत) से नवाजा गया है. उन्हें ओआरएस की खोज के लिए ये सम्मान दिया गया. इनके अलावा संगीतकार जाकिर हुसैन, एसएम कृष्णा, श्रीनिवास वरधान को भी पद्म विभूषण से नवाजा जाएगा.

राकेश झुनझुनवाला को पद्मश्री

सुधा मूर्ति, कुमार मंगलम बिड़ला पद्म भूषण के 9 पुरस्कार पाने वालों में शामिल हैं. राकेश राधेश्याम झुनझुनवाला (मरणोपरांत), आरआरआर फिल्म संगीतकार एमएम कीरावनी, अभिनेत्री रवीना रवि टंडन पद्मश्री के 91 पुरस्कार पाने वालों में शामिल हैं. रतन चंद्राकर को पद्मश्री दिया गया है. रतन चंद्राकर को अंडमान के जारवा ट्राइब्स में मिजल्स के लिए बेहतर काम के लिए सम्मान दिया गया है. हीरा बाई लोबी को गुजरात में सिद्धि ट्राइब्स के बीच बच्चों के शिक्षा पर काम करने के लिए पद्मश्री से नवाजा गया है.

मुनीश्वर चंदर डावर, युद्ध के दिग्गज और जबलपुर के डॉक्टर पिछले 50 वर्षों से वंचित लोगों का इलाज कर रहे हैं, जिन्हें चिकित्सा (सस्ती स्वास्थ्य सेवा) के क्षेत्र में पद्मश्री से सम्मानित किया गया है. हेराका धर्म के संरक्षण और संरक्षण के लिए अपना जीवन समर्पित करने वाले दीमा हसाओ के नागा सामाजिक कार्यकर्ता रामकुइवांगबे न्यूमे को सामाजिक कार्य (संस्कृति) के क्षेत्र में पद्मश्री से सम्मानित किया गया.

बी. रामकृष्ण रेड्डी को पद्मश्री

तेलंगाना के 80 वर्षीय भाषा विज्ञान प्रोफेसर बी. रामकृष्ण रेड्डी को साहित्य और शिक्षा (भाषाविज्ञान) के क्षेत्र में पद्मश्री से सम्मानित किया जाएगा. कांकेर के गोंड ट्राइबल वुड कार्वर अजय कुमार मंडावी को कला (लकड़ी पर नक्काशी) के क्षेत्र में पद्मश्री से नवाजा जाएगा. 3 दशकों से अधिक समय से मिज़ो सांस्कृतिक विरासत की रक्षा करने वाले आइज़वाल के मिज़ो लोक गायक के.सी. रनरेमसंगी को पद्मश्री से सम्मानित किया जाएगा. जलपाईगुड़ी के 102 वर्षीय सरिंदा वादक मंगला कांति रॉय को कला (लोक संगीत) के क्षेत्र में पद्मश्री से सम्मानित किया जाएगा.

कश्मीर के संतूर शिल्पकार को पद्मश्री

प्रख्यात नागा संगीतकार और नवप्रवर्तक मोआ सुबोंग को कला (लोक संगीत) के क्षेत्र में पद्मश्री से नवाजा जाएगा. चिक्काबल्लापुर के वयोवृद्ध थमाटे प्रतिपादक मुनिवेंकटप्पा को कला (लोक संगीत) के क्षेत्र में पद्मश्री से सम्मानित किया जाएगा. छत्तीसगढ़ी नाट्य नाच कलाकार डोमार सिंह कुंवर को कला (नृत्य) के क्षेत्र में पद्मश्री से सम्मानित किया जाएगा. पिछले 200 वर्षों से कश्मीर में बेहतरीन संतूर बनाने वाले परिवार के 8वीं पीढ़ी के संतूर शिल्पकार गुलाम मोहम्मद जाज को कला (शिल्प) के क्षेत्र में पद्मश्री से नवाजा जाएगा.

Previous articleराष्ट्रपति मुर्मू ने कांगड़ा के डीसी निपुण जिंदल को किया राष्ट्रीय पुरुस्कार से सम्मानित
Next articleराष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या राष्ट्र के नाम संबोधन, कहा, विकास और पर्यावरण के लिए संतुलन जरूरी

समाचार पर आपकी राय: