जोधपुर में 100 से ज्यादा पाकिस्तान से आए लोगों को मिली भारतीय नागरिकता, बोले, अब हटा कलंक

0
4

Jodhpur News: भारत की नागरिकता पाने की उम्मीद पाले हिंदू पाक विस्थापितों का आज इंतजार खत्म हो गया. जोधपुर जिला प्रशासन ने सूचना केंद्र में कैंप लगाकर पाकिस्तान से विस्थापित होकर भारत आये 100 से ज्यादा लोगों को नागरिकता प्रदान की. भारतीय नागरिकता मिलने पर पाक विस्थापितों के चेहरे खिल उठे. आंखों में खुशियों के आंसू लिए भारत माता की जयकारे किए. जिला कलेक्टर हिमांशु गुप्ता ने बताया कि पाक विस्थापितों को नागरिकता देने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देश पर आज सूचना केंद्र में कैंप लगाया गया. कैंप में 100 से अधिक पाक विस्थापितों को भारत की नागरिकता प्रदान की गई है. पाकिस्तानी होने के कलंक से आज मुक्ति मिलने पर विस्थापितों प्रशासन का आभार जताया.

पाक विस्थापितों को मिला भारतीयता का हक

23 साल पहले पिता के साथ पाकिस्तान से आए सुनील प्रजापत भारतीय नागरिकता का कई वर्षों से इंतजार कर रहे थे. 2 साल पहले उनके पिता को भारत की नागरिकता मिल गई थी. उन्होंने कहा कि आज मुझे भी भारतीय नागरिकता मिलना दूसरा जन्म जैसा है. भारतीय नागरिकता मिलने से अब खुली हवा में जी सकेंगे. हमारे ऊपर पाकिस्तनी होने का कलंक आज हट गया है.

नागरिकता मिलने की खुशी में लगाए नारे

लक्ष्मी राजपूत पाकिस्तान से निकलकर भारत आई थीं. आज लक्ष्मी को भारतीय नागरिकता मिल गई. लक्ष्मी ने कहा कि मेरे पति हैंडीक्राफ्ट का काम करते हैं. आज मुझे नागरिकता मिलने से मैं भारतीय हो गई हूं. इससे ज्यादा मेरे लिए खुशी का कोई ठिकाना नहीं. उन्होंने खुशी में भारत माता की जयकार किया. उनके चेहरे पर भारतीय नागरिकता मिलने की खुशी साफ झलक रही थी.

गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) ने पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में रह रहे हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई धर्म के लोगों को नागरिकता मिलने की प्रक्रिया को काफी सरल बना दिया है. इसके तहत अब जिला कलेक्टर को विस्थापितों की जांच करने और नागरिकता देने का अधिकार दिया गया है. पड़ोसी देशों में रह रहे प्रवासी हिंदुओं को भारत की नागरिकता मिलने में आसानी होगी.

समाचार पर आपकी राय: