महाठग सुकेश को सुप्रीम कोर्ट से पड़ी फटकार, कहा, अच्छा वकील कर सकते हो, इसका मतलब यह नही की बार बार कोर्ट आओगे

0
9

महाठग सुकेश चंद्रशेखर को सुप्रीम कोर्ट ने किसी तरह की राहत देने से इनकार किया है. इतना ही नहीं बार-बार याचिका लगाने पर भी सुप्रीम कोर्ट ने उसे फटकार लगाई है.

सुप्रीम कोर्ट ने फटकार लगाते हुए कहा है कि पैरवी के लिए अच्छे वकील कर सकते हैं इसके यह मतलब नहीं कि बार-बार कोर्ट का रुख किया जाए. सुकेश ने हाल में सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर करके दूसरी जेल में ट्रांसफर की मांग की थी. उसने दलील दी थी कि जेल में सीआरपीएफ परेशान कर रही है. जबसे उसने सत्येंद्र जैन को लेकर चिट्ठी लिखी है तब से लगातार उसे धमकियां मिल रही हैं.

बता दें कि ठगी का आरोपी सुकेश दिल्ली के मंडोली जेल में बंद है. उसने यहां से दूसरी जेल में ट्रांसफर की मांग की थी. इस याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस जारी किया है. कोर्ट ने सुकेश से इस बात का स्पष्टीकरण मांगा है. शीर्ष कोर्ट ने सुकेश की उस याचिका की सुनवाई नहीं की जिसमें उसने अपने वकीलों से मिलने वाले समय को बढ़ाने की मांग की थी. कोर्ट ने इस याचिका को भी खारिज करते हुए कहा कि इसले लिए आप जेल अथॉरिटी के पास जाने को कहा है. इस दौरान कोर्ट में सुकेश के वकील ने कहा, ईडी के सामने बयान के आधार पर उसको जेल अथॉरिटी से जान का खतरा है.

अंडमान निकोबार जेल जाने को तैयार

सुकेश ने अपनी याचिका में कोर्ट में कहा था कि उसे किसी भी जेल में भेज दिया जाए. लेकिन जहां पर हैं वहां उसे न रखा जाए. इसके पीछे की वजह उसने स्थानीय स्टाफ से उसकी जान को खतरा होना बताया है. वकील ने कोर्ट में दलील दी है कि उसने जेलमंत्री के खिलाफ भी शिकायत की है. इस पर सुप्रीम कोर्ट ने सवाल किया कि आप लगातार कोर्ट में याचिका क्यों दाखिल करते हैं. कोर्ट ने एक और सवाल पूछा कि क्या आर्टिकल 32 के तहत इस तरह की याचिका दाखिल की जा सकती है.

वकीलों से मिलने का समय बढ़ाने की मांग भी खारिज

सुकेश पर कुल 28 केस दर्ज हैं. इतने केस होने के चलते उसने 20 वकील हायर किए हुए हैं जिनसे वह ठीक से बात नहीं कर पा रहा है. इसलिए सुकेश की ओर से याचिका लगाई गई थी कि उसे 30 मिनट के वकीलों के समय को बढ़ाकर 60 मिनट किया जाना चाहिए. वकील ने कहा कि वह किसी तरह के वीआईपी ट्रीटमेंट की बात नहीं कर रहा है बस वह अपने खिलाफ चल रहे केस पर वकीलों से ठीक से बात नहीं कर पा रहा है.

समाचार पर आपकी राय: