हिमाचल में कांग्रेस के मंत्रिमंडल बनाने में छूटे पसीने, खड़गे ने डाला तीन दलित मंत्री बनाने पर दबाब

0

शिमला: हिमाचल में सत्तासीन कांग्रेस सरकार के मुखिया सुखविंदर सिंह अपनी टीम फाइनल करने में पसीने-पसीने हो गए हैं. कैबिनेट विस्तार को लेकर चर्चा के लिए सीएम सुखविंदर सिंह दिल्ली में हैं. उनकी पार्टी हाईकमान से निरंतर चर्चा हो रही है. बताया जा रहा है कि कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे हिमाचल में कांग्रेस सरकार में दलित वर्ग का अधिक से अधिक प्रतिनिधित्व चाहते हैं. अभी कैबिनेट में कांग्रेस के वरिष्ठ और उम्रदराज नेता कर्नल धनीराम शांडिल के नाम की चर्चा थी.

सुखविंदर सिंह आज मिलेंगे प्रियंका वाड्रा से : कर्नल शांडिल चाहते हैं कि उन्हें डिप्टी सीएम जैसा ओहदा मिलना चाहिए. अब नए समीकरणों के कारण कांग्रेस सरकार में सिरमौर से विनय कुमार व शिमला जिले से नंदलाल का नाम भी मंत्रियों के तौर पर सामने आया है. कांग्रेस के आंतरिक सूत्रों के अनुसार शनिवार को सुबह सीएम सुखविंदर सिंह सुक्खू एक बार फिर से कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे से मिलेंगे. उनका प्रियंका वाड्रा से मिलने का भी कार्यक्रम है. उसके बाद देर शाम सीएम सुखविंदर सिंह सुक्खू दिल्ली से शिमला लौट आएंगे.

रविवार को हो सकता शपथ ग्रहण समारोह: ऐसे में रविवार को शिमला में शपथ ग्रहण समारोह हो सकता है. इस बीच, मंत्रियों को लेकर कांग्रेस में भी कई तरह की चर्चाएं शुरू हो गई हैं. अब कांग्रेस में हर्षवर्धन चौहान, राजेश धर्माणी, चंद्र कुमार, सुधीर शर्मा, जगत सिंह नेगी, धनीराम शांडिल, नंदलाल, विक्रमादित्य सिंह, रघुवीर सिंह बाली के साथ-साथ दलित वर्ग से मोहनलाल ब्राक्टा का नाम भी दावेदारों की लिस्ट में शामिल हो गया है.

सीएम सुखविंदर ने 11 दिसंबर 2022 को ली थी शपथ: हिमाचल में चुनाव परिणाम निकले हुए करीब एक महीना होने जा रहा है, लेकिन सीएम सुखविंदर सिंह सुक्खू की टीम पूरी तरह से गठित नहीं हो पाई है. 8 दिसंबर 2022 को चुनाव परिणाम घोषित हुआ और 11 दिसंबर को सुखविंदर सिंह ने सीएम व मुकेश अग्निहोत्री ने डिप्टी सीएम के तौर पर शपथ ली. उसके बाद से कैबिनेट विस्तार नहीं हो पाया है. अभी केवल विधानसभा अध्यक्ष का ही चयन हुआ है. कैबिनेट विस्तार को लेकर चर्चा के लिए सीएम सुखविंदर सिंह शीतकालीन सत्र के अंतिम दिन भी दिल्ली में ही थे. वे गुरूवार को दिल्ली रवाना हुए थे और शुक्रवार को भी वापस धर्मशाला नहीं आए.

जयराम ठाकुर ने साधा निशाना: अब शनिवार को उनके दिल्ली से शिमला लौटने का संभावित कार्यक्रम है. उधर, राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर भी गोवा जाने वाले हैं. उनका गोवा प्रवास का कार्यक्रम है. राज्यपाल संभवत: रविवार को दोपहर बाद शिमला से चंडीगढ़ और फिर वहां से गोवा जाएंगे. ऐसे में माना जा रहा है कि रविवार को सुबह राजभवन में शपथ ग्रहण समारोह आयोजित हो सकता है. वहीं, चुनाव परिणाम निकलने के 1 माह बाद भी कांग्रेस सरकार का कैबिनेट विस्तार न होने से भाजपा भी तंज कस रही है. नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर का कहना है कि चुनाव परिणाम 2022 में निकल चुका और सुक्खू सरकार का मंत्रिमंडल 2023 में बन रहा है. यही नहीं, कैबिनेट गठन में देरी से भाजपा को कांग्रेस पर सवाल उठाने का मौका मिल रहा है.

Previous articleराजभवन में शपथ समारोह को तैयारियां पूर्ण, लेकिन पार्टी तय नहीं कर पा रही मंत्रियों के नाम, जानें कहां फंसा पेच
Next articleहिमाचल में मंत्री पदों के लिए लॉबिंग शुरू, कई विधायक शुक्ला, खड़गे और गांधी परिवार से बना रहे संपर्क, जानें कौन रेस में आगे

समाचार पर आपकी राय: