राज्य प्रशिक्षण केंद्र में सात राज्यों के इंजीनियरों को दी पेयजल योजनाओं के संचालन की जानकारी

0

मंडी। मंडी के ढांगसीधार में जल शक्ति विभाग के राज्य प्रशिक्षण केंद्र में हिमाचल सहित सात राज्यों पंजाब, हरियाणा, उत्तराखण्ड, राजस्थान, महाराष्ट्र, गोवा  के इंजीनियरों को पहाड़ी क्षेत्र की ग्रामीण पेयजल योजनाओं की दीर्घकालिकता के लिए वाटर ट्रिटमैंट संयत्र तथा अंतर्ग्राही संरचना के चयन, डिजाईन, निर्माण, संचालन एवं रख-रखाव बारे प्रशिक्षित किया जा रहा है। तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में इन सात राज्यों के कनिष्ठ अभियंता, सहायक अभियंता, अधिशाषी अभियंता तथा अधिक्षण अभियंता भाग ले रहे।

जल शक्ति विभाग के सेवानिवृत अभियन्ता एनडी वैद्य ने प्रशिक्षण के पहले दिन पहाड़ी राज्यों में पानी को शु़द्ध करने के लिए स्लो सैंड फिल्टर के बारे में जानकारी दी, वहीं जल शक्ति विभाग के अधीक्षण अभियन्ता डिजाइन विकास कपूर ने जल शोधन के बारे में जानकारी दी। प्रशिक्षण के दूसरे दिन उत्तर प्रदेश जल निगम के सेवानिवृत अभियन्ता विजेन्द्र विक्रमादित्य ने रैपिड सैंड फिल्टर के बारे में जानकारी दी। इन अभियन्ताओं को ई0 विकास कपूर के नेतृत्व में कांगनीधार पेयजल संयत्र में जल शोधन के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई।

जल संस्थान उत्तराखण्ड के सेवानिवृत एचओडी ई0 एचपी उनियान प्रशिक्षण के तीसरे दिन शनिवार को पहाड़ी राज्यों के ग्रामीण पेयजल स्कीमों में पानी के डिसइनफैक्शन की विधियों की जानकारी देंगे, वहीं विजेन्द्र विक्रमादित्य पहाड़ी राज्यों में पानी के प्रबंधन और वितरण के बारे में जानकारी देंगे।  

Previous articleमंडी में 7 या 8 जनवरी को हो सकती है बर्फबारी, डीसी ने नागरिकों से ऊंचाई पर ना जाने का किया आग्रह
Next articleऐतिहासिक रिज मैदान पर मनाया जाएगा राज्य स्तरीय गणतंत्र दिवस समारोह; डीसी आदित्य नेगी

समाचार पर आपकी राय: