शिमला में श्रद्धा को न्याय दिलाने के लिए निकाला कैंडल मार्च, सैकड़ों लोग हुए शामिल

0
1

शिमला: दिल्ली में हाल ही में हुई दिल दहला देने वाली घटना श्रद्धा हत्याकांड से आहत युवाओं ने श्रद्धा को न्याय दिलाने के लिए शिमला में स्वयंसेवी संस्था डिफैंडर्स ऑफ ह्यूमन राइट्स के बैनर तले जिलाधीश कार्यालय के बाहर कैंडल मार्च निकाला गया।

इस दौरान सैंकड़ों लोगों ने श्रद्धा को न्याय दिलाने के लिए कैंडल मार्च अभियान में भाग लिया। संस्था ने जिलाधीश शिमला के माध्यम से भारत की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मु को ज्ञापन सौंपा। संस्था के कार्यकारी अध्यक्ष सेवानिवृत्त प्रशासनिक अधिकारी बीएन नैंटा, सचिव एडवोकेट रीता गोस्वामी, उपाध्यक्ष एडवोकेट भारतभूषण और संस्था के अन्य सदस्य इस अवसर पर उपस्थित रहे।

संस्था के अध्यक्ष बीएन नैंटा ने बताया कि ज्ञापन के माध्यम से श्रद्धा लव जिहाद हत्याकांड के आरोपित को कड़ी सजा देने और लिव इन रिलेशनशिप के विरुद्ध कड़ा कानून बनाने का आग्रह किया गया है। इसके उपरान्त डीएचआर के बैनर तले सीटीओ शिमला से शेरे पंजाब तक कैंडल मार्च भी निकाला गया जिसमें सैंकड़ों की संख्या में लोगों ने भाग लेकर श्रद्धा और लव जिहाद हत्याकांड में मारी गई अन्य युवतियों के लिए न्याय की मांग की। संस्था के उपाध्यक्ष भारतभूषण ने कहा कि लिव इन रिलेशनशिप कुप्रथा को समाप्त करने के लिए एक कठोर कानून बनाया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि संस्था द्वारा कैंडल मार्च निकालकर व हस्ताक्षर अभियान चलाकर युवाओं को जागरूक किया जा रहा है ताकि वे सनातन संस्कृति पर हो रहे कुठाराघात को भली भान्ति समझ सकें। सैंकड़ों की संख्या में युवक-युवतियों, विभिन्न काॅलेजों के छात्र-छात्राओं और शिमला के अन्य गण्यमान्य लोग कैंडल मार्च में सम्मिलित हुए। लोगों का कहना था कि इस प्रकार की जेहादी सोच से की गई घटनाएं स्वीकार नहीं कि जानी चाहिए। इस घटना के विरोध में देश भर में विभिन्न प्रकार के अभियान चलाए जा रहे हैं जिसमें समाज के सभी वर्ग भाग ले रहे हैं।

समाचार पर आपकी राय: