Graduate Chai Wali: ग्रेजुएट चायवाली का ठेला हुआ गायब, सोशल मीडिया पर रोटी नजर आई प्रियंका

0
2

पटना: राजधानी पटना में कुछ महीने पहले वीमेंस कॉलेज (Womens College) के पास ‘ग्रेजुएट चाय वाली’ (Graduate Chai Wali) के नाम से प्रियंका गुप्ता (Priyanka Gupta) ने स्टॉल लगाकर खूब सुर्खियां बटोरीं. इसके बाद यहां से उन्होंने अपने स्टॉल को शिफ्ट कर लिया और वो बोरिंग रोड चली गईं. फिर अन्य जगह भी स्टॉल खोला. बीच में कुछ दिनों पहले पटना नगर निगम (Patna Nagar Nigam) ने उनके ठेले को भी हटा दिया था जिसके बाद वे लालू प्रसाद यादव के पास तक पहुंच गईं. अब फिर ऐसा कुछ हुआ है कि उन्होंने काम ही बंद करने का फैसला कर लिया है. सोमवार को प्रियंका गुप्ता का एक वीडियो सामने आया है जिसमें वो फूट-फूट कर रो रही हैं.

प्रियंका गुप्ता क्या कह रही हैं वीडियो में?

प्रियंका ने रोते हुए कहा- “आप सब तो मुझे जानते ही होंगे ग्रेजुएट चाय वाली. सो कॉल्ड ग्रेजुएट चाय वाली. हद भूल गए थे हम अपनी. मुझे लगा था कि हम बिहार में कुछ अलग कर रहे थे. अभी तो आप लोग सपोर्ट कर रहे थे न लेकिन हम अपनी हद भूल गए थे कि ये बिहार है बिहार. यहां लड़कियों की औकात इतनी होती है कि बस वो लोग किचन तक सीमित रहे. होना भी चाहिए. लड़कियों को आगे बढ़ने का कोई हक नहीं होता है.”

प्रियंका ने वीडियो में रोते हुए आगे कहा- “यहां पटना में बहुत सारा ठेला लगता है. पटना में अवैध तरीके से बहुत काम होता है. शराब बेची जाती है, लेकिन वहां सिस्टम एक्टिव नहीं होता है. कोई लड़की अपना व्यवसाय कर रही है तो उसको बार बार परेशान किया जाता है. हद भूल गए थे न हम अपनी. मेरी औकात बस चूल्हा चौका तक है. शादी करके बस अपने घर जाना. बिजनेस करना तो अधिकार ही नहीं है.”

नगर निगम पर लगाया आरोप

दरअसल प्रिंयका गुप्ता बोरिंग रोड में जहां ठेला लगाती थीं वहां से अचानक उनका ठेला गायब हो गया है. वहां बस दो डिब्बा है जिसमें शायद चाय का कप या कचरा डाला जाता है. वीडियो में उन्होंने नगर निगम पर आरोप लगाया है. वीडियो में प्रियंका ने कहा- “जब मुझे लगा कि नगर निगम के कमिश्नर सर से परमिशन मिला है कि हम कुछ दिनों के लिए यहां ठेला लगा सकते हैं तो बार बार मेरा स्टॉल क्यों उठा लिया जाता है? हम हार मान गए सिस्टम से. जिन जिन ने हम लोगों का फ्रेंचाइजी बुक किया है हम उनको पैसा वापस करने जा रहे हैं. कंपनी बंद करने जा रहे हैं. हम घर जा रहे हैं वापस. थैंक्यू नगर निगम.”

समाचार पर आपकी राय: