Dharamshala Ground Report: जानिए क्या बोलते हैं धर्मशाला सीट के आंकड़े, ओबीसी वोट किसके सिर बांधेंगे जीत का सेहरा, कमेंट में राय जरूर दें

0
75

धर्मशाला: हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव (Himachal Assembly Elections 2022) होने में अब कुछ महीनों का समय ही शेष बचा है. लेकिन विधानसभा चुनावों को लेकर भाजपा, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने चुानव जीत दर्ज करने के लिए अपनी पूरी ताकत लगा दी है. हिमाचल सीट स्कैन (himachal seat scan) में आज हम कांगड़ा जिले की धर्मशाला विधानसभा सीट (Dharamshala assembly seat ground report) की करने जा रहे हैं. सत्ता की दृष्टि से कांगड़ा जिले की हर एक सीट बेहद महत्वपूर्ण है.

हिमाचल प्रदेश के सबसे बड़ा जिला होने के नाते हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर भी जिला कांगड़ा के बैक टू बैक दौरे कर रहे हैं. वहीं, राजनीतिक पंडितों का भी मानना है कि जो पार्टी जिला कांगड़ा के पंद्रह विधानसभा सीटों पर अपना कब्जा जमा लेती है, उसकी सरकार हिमाचल में बन जाती है. इसी को लेकर अब धर्मशाला विधानसभा सीट हॉट सीट बन गई है. हालांकि इस विधानसभा सीट से बारी-बारी कांग्रेस और भाजपा के उम्मीदवारों ने जीत दर्ज की है, लेकिन इस मर्तबा आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party in Himachal) भी चुनावी मैदान में आ गई है. इसलिए अब देखना रोचक होगा कि आखिर कौन सी पार्टी इस बार धर्मशाला विधानसभा सीट पर अपनी जीत दर्ज करवाती है.

धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र में मतदाता: धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र में कुल 80,309 मतदाता हैं, जिनमें से 40,314 पुरुष और 39,995 महिलाएं हैं. धर्मशाला विधानसभा सीट पर कुल 84 पोलिंग बूथ हैं, जिनमें से 2 अति संवेदनशील 12 संवेदनशील और 70 आम पोलिंग बूथ हैं.

धर्मशाला विधानसभा सीट पर OBC वोटर तय करते हैं हार-जीत का फैसला: धर्मशाला विधानसभा सीट (Dharamshala assembly seat ) पर 9 नवंबर 2017 को विधानसभा के चुनाव हुए थे. इसमें कुल 74,863 मतदाताओं ने अपने मत का प्रयोग किया था. इसमें से 36,320 पुरुष और 36,543 महिलाओं ने अपने मत का प्रयोग किया था. साल 2017 में 75.21 प्रतिशत वोटिंग हुई थी. पिछले विधानसभा चुनावों में कुल 12 लोगों में मुकाबला हुआ था, जिसमें से किशन कपूर को 26,050 और सुधीर शर्मा को 23,053 वोट मिले थे. वहीं, 2,997 वोटों के बढ़त से किशन कपूर जीते थे. कांगड़ा जिले में जातीय समीकरण हमेशा ओबीसी ही रहा है. सबसे ज्यादा ओबीसी समुदाय के लोग ही चुनावों में हर जीत का फैसला करते हैं.

धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र के अहम मुद्दे: हर चुनाव में धर्मशाला में पार्किंग की समस्या हमेशा से उठाई जाती रही है. वहीं, धर्मशाला की डंपिंग साइट को शिफ्ट करने की भी लंबे समय से मांग (Dharamshala Assembly Constituency Issues) उठाई जा रही है जो अभी तक पूरी नहीं हुई है. इसके अलावा धर्मशाला में सड़कें भी काफी संकीर्ण हैं. वहीं, मैक्लोडगंज में भी अक्सर जाम की स्थिति बनी रहती है जिसे धर्मशाला घूमने आने वाले पर्यटकों को अक्सर ट्रैफिक जाम का सामना करना पड़ता है. हालांकि अभी कुछ समय पहले ही धर्मशाला में रोप वे (Rope Way in Dharamshala) की भी शुरुआत की गई है, लेकिन इसके बावजूद अक्सर मैक्लोडगंज में जाम की स्थिति बन जाती है.

अधर में निर्माण कार्य: धर्मशाला के स्मार्ट रोड का निर्माण कार्य हो, अंतरराष्ट्रीय बस अड्डे का निर्माण कार्य हो या फिर सीयू का निर्माण अभ तक सभी कार्य अधर में लटके हुए हैं. स्थानीय लोगों का यह कहना है कि सत्ता में चाहे कांग्रेस हो या भाजपा दोनों पार्टियों ने केवल आश्वासन और घोषणाएं ही की हैं, लेकिन धरातल पर कोई भी योजना नहीं लाई गई है. वहीं, स्मार्ट सिटी (Dharamshala Smart City) के नाम पर भी कांग्रेस और भाजपा ने अपनी राजनीति रोटियां ही सेकी है.

धर्मशाला सीट पर टिकट की दावेदारी: चुनाव से पहले धर्मशाला विधानसभा क्षेत्र (Dharamshala Assembly Constituency) में टिकट कई चाहवान सामने आने लगे हैं, भाजपा में कई ऐसे नेता हैं जो टिकट की दावेदारी जाहिर कर रहे हैं, लेकिन धर्मशाला के मौजूदा विधायक विशाल नेहरिया काफी सक्रिय हैं. वह लोगों के बीच भी जा रहे हैं. वहीं, इस बार विधानसभा चुनावों में आम आदमी पार्टी भी चुनाव लड़ने जा रही है. इससे कहीं न कहीं चुनावी समीकरण बदलने की बात भी कही जा रही है. इसी के साथ धर्मशाला में पूर्व विधायक और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सुधीर शर्मा (Congress leader Sudhir Sharma) भी अब सक्रिय हो गए हैं. स्थानीय लोगों का भी कहना है कि अगर कांग्रेस पार्टी इन विधानसभा चुनावों के दौरान सुधीर शर्मा को टिकट देती है तो सुधीर शर्मा एक मजबूत उम्मीदवार के रूप में पार्टी को जीत दिलवा सकते हैं. खैर यह तो आने वाले वक्त में ही पता चल पाएगा की धर्मशाला विधानसभा सीट पर जनता किस पार्टी का साथ देती है. लेकिन चुनाव से पहले धर्मशाला में इस साल चुनावी जंग काफी रोचक हो गया है.

क्या कहते हैं सांसद किशन कपूर: कांगड़ा से बीजेपी सांसद किशन कपूर (Kangra BJP MP Kishan Kapoor) ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनावों में भाजपा भारी बहुमत से जीत दर्ज करेगी उन्होंने कहा कि भाजपा के सभी कार्यकर्ता एकजुट होकर चुनाव लड़ेंगे और निश्चित रूप से धर्मशाला विधानसभा सीट पर भाजपा अपनी जीत दर्ज करेगी उन्होंने कहा जिस तरह से पिछले चुनावों में धर्मशाला की जनता ने उन्हें भारी बहुमत से जीत दिलवाकर कर संसद पहुंचाया था उसी प्रकार इस मर्तबा भी भाजपा भारी बहुमत से जीत दर्ज करेगी.

धर्मशाला विधायक विशाल नेहरिया की दलील: धर्मशाला के विधायक विशाल नेहरिया (Dharamshala MLA Vishal Nehria) ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनावों में क्षेत्र के लोग विकास को देखते हुए अपना मतदान करेंगे और यह सुनिश्चित है कि भाजपा धर्मशाला विधानसभा सीट पर अपनी जीत दर्ज करेगी क्योंकि भाजपा ने धर्मशाला में विकास के कई कार्य किए हैं जिसको देखते हुए यहां के लोग निश्चित रूप से भाजपा के पक्ष में ही मतदान करेंगे और भाजपा को विधानसभा चुनावों में जीत दर्ज करवाएंगे उन्होंने कहा कि कांग्रेस अपने कार्यकाल के दौरान केवल घोषणाएं ही करती रही लेकिन भाजपा ने धरातल पर जाकर योजनाओं को अमलीजामा पहनाया है जिसको देखते हुए यहां के लोग निश्चित रूप से भाजपा के पक्ष में मतदान करेंगे.

कांग्रेस का भाजपा विधायक पर आरोप: धर्मशाला के पूर्व विधायक सुधीर शर्मा (Dharamshala Ex MLA Sudhir Sharma) ने कहा कि भाजपा के शासनकाल में देश में ही नहीं, बल्कि प्रदेश में भी बेरोजगारी व महंगाई अपने चरम सीमा पर पहुंच गई है. उन्होंने कहा कि यह भाजपा शासनकाल (Sudhir Sharma on BJP Government) के दौरान ही घटित हुआ है कि पहली बार किसी सरकार ने दूध दही जैसी मामूली चीजों पर भी जीएसटी लगाई है. सुधीर शर्मा ने कहा कि इस मर्तबा बढ़ती महंगाई ही भाजपा की नैया को निश्चित रुप से डुबोएगी. इसके अलावा उन्होंने कहा कि धर्मशाला के लोगों ने अब बना लिया है कि इस बार कांग्रेस सरकार को ही सत्ता में लाएंगे और भाजपा को उनकी करनी का फल भुगतना पड़ेगा.

समाचार पर आपकी राय: